बाड़मेर : राहत की बारिश, बन गई आफत

जागरूक टाइम्स 771 Jun 30, 2018

- नाला व मैन हॉल खुले रहने से हादसों की आशंका
बाड़मेर @ जागरूक टाइम्स
तीक्ष्ण गर्मी और उसम से बेहाल लोगों को मेहबाब की मेहरबान से सुकून मिला। बारिश से मौसम खुशगवार हो गया तो लोगों में अच्छे जमाने की आस बंधी। लेकिन राहत की यह बारिश शहरवासियों के लिए आफत बनती जा रही है। नगर परिषद की लापरवाही से बारिश का यह पानी काल को बुलावा देता नजर आ रहा है। शहर में निर्माणाधीन चार फीट का नाला जहां-तहां खुला पड़ा है। तिस पर बारिश से ऐन पहले इनके मैनहोल भी खोल दिए गए। अब आलम यह है कि पानी से लबालब शहर की सड़कें और नाला एक जैसा नजर आता है। ऐसे में वाहन चालकों के साथ राहगीरों के लिए हर समय हादसे की आशंका बनी रहती है। यह बात दीगर है कि यह नाला बारिश से चार पहले ही पूर्ण किया जाना था, लेकिन नगर परिषद की लापरवाही और उदासीनता के चलते ठेकेदार ने यह काम अब तक पूरा नहीं किया है। ऐसे में अब शहरवासियों को इसका खामियाजा भुगतना पड़ रहा है। 

दरअसल, रेलवे स्टेशन के सामने इस नाले को ऊपर से कवर नहीं किया गया, बारिश के पानी से भर जाने के कारण नाला दिखाई नहीं दे रहा। वहीं एक और बड़ी समस्या इस नाले के पास सीवरेज के मैन हॉल को एक दिन पहले खोलने से पैदा हो गई है। हाल यह है कि अनजाने में कई लोग नाले और सीवरेज के खुले मैनहोल में गिरकर चोटिल तो हो ही सकता है। यह तो गनीमत है कि अब तक कोई बड़ा हादसा नहीं हुआ। लेकिन परिषद को समय रहते नाले को ढकवाना चाहिए।

गुणवत्ता पर सवालिया निशान

नाला निर्माण पूरा नहीं होने से जहां लोगों की परेशानियां बढ़ गई हैं। वहीं अब नाला निर्माण की गुणवत्ता पर ही सवालिया निशान लगने लगा है। दरअसल, नाले में पानी आने के कारण रेलवे स्टेशन के सामने स्थित जय हिंद होटल के आगे नाले की दीवार ही ढह गई। चिंतनीय बात यह है कि यह नाला एक बारिश ही नहीं झेल पाया। ऐसे में इसकी गुणवत्ता के दावे में ही पोल नजर आती है। अब लोगों को भी आशंका सताते लगी है कि कई बारिश के कारण यह नाला जानलेवा साबित ना हो जाए।

Leave a comment