तीन दिन बाद परिजनों ने उठाया तस्कर का शव, एग्जीक्यूटिव मजिस्ट्रेट करेंगे मामले की जांच

जागरूक टाइम्स 1084 Aug 5, 2018

बाड़मेर @ जागरूक टाइम्स

जिले के माडपुरा निवासी डोडा पोस्त तस्कर खरथाराम ने पाली जिले के नाना थाना क्षेत्र में भीमाणा-तनी के निकट पुलिस मुठभेड़ में खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली थी। जिसके बाद परिजनों व समर्थकों की ओर से लगातार तीन दिन से विरोध प्रदर्शन किया जा रहा था। ऐसे में तीन दिन से परिजनों से शव नहीं उठाया था, लेकिन रविवार को परिजनों से शव उठाने पर सहमति बनी।

पाली जिला कलक्टर सुधीर कुमार शर्मा से दूरभाष पर हुई बातचीत में उन्होंने बताया कि परिजन शव को उठाने के लिए मान गए हैं। शव का पोस्टमार्टम करवाकर शव परिजनों को सुपुर्द किया जाएगा। उन्होंने कहा कि एग्जीक्यूटिव मजिस्ट्रेट बाली इस मामले की जांच करेंगे।

गौरतलब है कि बाड़मेर जिले के नागाणा थाने के हिस्ट्रीशीटर हरीश हत्याकांड का मुख्य आरोपी, अवैध डोडा पोस्त सहित अन्य मादक पदार्थों के तस्कर खरथाराम के मौत की खबर तीन दिन पहले सामने आई थी। पाली जिले के आदिवासी बाहुल्य इलाके नाना थाना क्षेत्र के भीमाना क्षेत्र में शुक्रवार अलसुबह डोडा पोस्त तस्करों को पकडने गई पुलिस पर तस्करों ने फायरिंग की। इस दौरान एक तस्कर के पकड़े जाने के बाद बाड़मेर के कुख्यात तस्कर खरताराम ने पिस्टल से स्वयं को गोली मार आत्महत्या कर ली थी। वहीं पुलिस ने उसके सहयोगी भजनलाल को गिरफ्तार कर लिया था।

जिसके बाद मामले ने तूल पकड़ लिया और मामले को लेकर परिजनों ने शनिवार तक डोडा तस्कर का शव नहीं उठाया। परिजनों व समर्थकों ने पुलिस पर एनकाउंटर करने का आरोप लगाते हुए मामले की सीबीआई जांच करवाने, पुलिसकर्मियों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज करने, परिजनों को मुआवजा व आश्रित को सरकारी नौकरी देने, मामले में लिप्त पुलिसकर्मियों को निलंबित करने व मृतक के पहने हुए सामान को वापस देने की मांग की जा रही थी। वहीं इन मांगों को लेकर शनिवार शाम पाली जिले कलक्टर सुधीर कुमार व एसपी राहुल प्रकाश को ज्ञापन भी सौंपा था। वहीं मांगें नहीं माने जाने तक पोस्टमार्टम करवाने व शव उठाने को लेकर इनकार कर दिया था। 

रात में संदिग्ध गाडिय़ां पहुंची हॉस्टल, पुलिस ने दबिश देकर खदेड़ा

शनिवार देर रात मृतक के परिजनों की जिला कलक्टर से वार्ता हुई, जो विफल रही। जिसके बाद मृतक के समर्थक करीब तीन दर्जन गाडिय़ों में जाट हॉस्टल पहुंचे, इनमें कई गाडिय़ां बिना नम्बरी थी। घटना की खबर जब पुलिस को लगी तो पुलिस का भारी जाब्ता हॉस्टल पहुंच गया। पुलिस को खबर मिली थी कि इन गाडिय़ों में कई शातिर तस्कर भी पहुंचे हैं। इस पर पुलिस ने मौके पर पहुंच गाडिय़ों के कागजात चैक करने शुरू किए। वहीं हॉस्टल में तलाशी लेनी शुरू की। यह देख वहां पहुंचे लोगों में हड़कंप मच गया। ऐसे में ये लोग गाडिय़ां लेकर वापस भाग गए। वहीं कई संदिग्ध हॉस्टल की छत से कूदकर भाग गए।

भारी पुलिस जाब्ता रहा तैनात

इधर, रविवार को पाली के बांगड़ अस्पताल मोर्चरी के बाहर व जाट छात्रावास के बाहर शनिवार को दिनभर पुलिस जाब्ता तैनात रहा। वहीं रविवार को भी पुलिस तैनात रही।

Leave a comment