पानी के लिए किसानों का महापड़ाव शुरू, पानी नहीं मिलने तक किसानों का धरना रहेगा जारी

जागरूक टाइम्स 371 Aug 6, 2018

-पूर्व राजस्व मंत्री एवं पूर्व सांसद उतरे किसानों के समर्थन में

बाड़मेर @ जागरूक टाइम्स

नर्मदा नहर से गुडामालानी क्षेत्र में पानी की सप्लाई चालू करवाने की मांग को लेकर क्षेत्र के किसानों ने सोमवार से रामजी की गोल में अनिश्चितकालीन धरना शुरू किया। किसानों ने घोषणा की कि पानी नहीं मिलने तक किसानों का धरना जारी रहेगा। इस दौरान धरना स्थल पर पूर्व राजस्व मंत्री हेमाराम चौधरी, पूर्व सांसद हरीश चौधरी, धोरीमन्ना प्रधान ताजाराम चौधरी, गुडामालानी पूर्व सरपंच सुरेन्द्र सिंह ने पहुंचकर किसानों की मांगों का समर्थन किया एवं उपखण्ड अधिकारी को मांगों का ज्ञापन सौंपा।

इस अवसर पर क्षेत्र के उपस्थित सैकड़ों किसानों को संबोधित करते हुए पूर्व राजस्व मंत्री ने कहा कि किसान अन्नदाता है और अन्नदाता की अनदेखी भाजपा सरकार को भारी पड़ेगी। उन्होंने कहा कि देश की सत्तर प्रतिशत आबादी आज भी गांवों में रहती है और वह ज्यादातर कृषि पर निर्भर है। आज सरकार की किसान विरोधी नीतियों के कारण किसानों की हालत बहुत खराब होती जा रही है। पूर्व मंत्री ने कहा कि कांग्रेस सरकारों ने गांवों के विकास के लिए किसानों के लिए कई महत्वपूर्ण योजनाओं को लागू किया। खाद्य सुरक्षा का अधिकार, रास्तों का अधिकार, रोजगार का अधिकार जैसे कई एतिहासिक कदम कांग्रेस सरकार की देन है, लेकिन वर्तमान सरकार ने केवल उद्योगपतियों पर ध्यान केन्द्रित कर रखा है।

एआईसीसी सचिव एवं पूर्व सांसद हरीश चौधरी ने कहा कि किसान वर्ग की सोचने वाला कोई नहीं है। किसानों को खुद की परेशानियों व दिक्कतों के लिए खुद ही लडऩा होगा। आज का यह धरना भी इसी का परिणाम है। राज्य व केन्द्र की भाजपा सरकार किसान विरोधी है और हर प्रकार से किसानों के हितों की अनदेखी करती जा रही है। बाड़मेर जिले में पीने व सिंचाई के लिए पानी की जरूरत को पूरा करने के लिए पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार ने इंदिरा गांधी और नर्मदा नहर आधारित योजनाओं को प्राथमिकता से करवाया। नर्मदा नहर में मरम्मत कार्य तत्कालीन राजस्व मंत्री हेमाराम चैधरी ने स्वयं की देखरेख में करवाया, लेकिन आज स्थिति यह है साल भर से अधिक समय से मुख्य नहर क्षतिग्रस्त है और किसानों को पानी नहीं मिल रहा है।

पूर्व सांसद ने कहा कि आजाद भारत के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है कि कृषि उत्पादन के लिए काम आने वाले फर्टिलाइजर, ट्रैक्टर-ट्रोली पर टैक्स लगाया गया है। वहीं डीजल पर लगाए गए टैक्स की मार भी किसानो पर भारी पड़ रही है। पूर्व सांसद ने कहा कि सरकार फसल बीमा के नाम पर किसानों से पैसा लेकर बीमा कम्पनियों को मालामाल कर रही है। किसानों के धरने के धारीमन्ना प्रधान ताजाराम, ब्लॉक कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष दिनेश कुलदीप, मार्केटिंग सोसायटी अध्यक्ष गोरधनराम विश्नोई सहित कई जनप्रतिनिधियों व किसानों ने संबोधित किया। 

किसानों ने नर्मदा के भदराई लिफ्ट एवं इससे संबंधित सभी नहरों एवं वितरिकाओं में जल्दी से जल्दी पानी सप्लाई चालू करने, अधिशाषी अभियन्ता का कार्यालय रामजी की गोल में चालू करने, कोठाला माइनर की डिग्गी का कार्य तत्काल शुरू करने, भदराई लिफ्ट सिस्टम के समस्त माइनरों की डिग्गी में अपूर्ण कार्य का पूरा करने, चैनपुरा माइनर से मिट्टी का बाहर निकालने, रड्डू माइनर में सेफ्टी वॉल दीवार का निर्माण करवाने सहित कई आवश्यक मांगों का ज्ञापन उपखण्ड अधिकारी को दिया गया। किसानों द्वारा मंगलवार को सद्बुद्धि यज्ञ किया जाएगा। धरना स्थल पर बोरचारणान सरपंच जेरूपाराम, सरपंच दिनेश विश्नोई, बेरीगांव सरपंच रघुनाथ विश्नोई, एडवोकेट विशनसिंह खोथ, कांतिलाल सोनी, रामजी की गांल सरपंच खुमाराम बेरड़, बांटा पूर्व सरपंच नाथाराम सहित कई सरपंच, पूर्व सरपंच, जनप्रतिनिधि और सैकड़ों ग्रामीण उपस्थित थे।

Leave a comment