बीजेपी सांसद पर हमला , पुलिस पर भी उठे सवाल

जागरूक टाइम्स 5502 Aug 15, 2018

दुर्गसिंह राजपुरोहित @ जागरूक टाइम्स

बाड़मेर-जैसलमेर के सांसद कर्नल सोनाराम चौधरी वर्ष 2014 में भारतीय जनता पार्टी में जब से आए हैं, तब से उनके साथ ऐसी घटनाएं घटित हो रही हैं जो लोकतांत्रिक मुल्क में ठीक नहीं कही जा सकती। कर्नल सोनाराम चौधरी बीजेपी सांसद बने हैं, तब से लगाकर तीन बार उन पर हमले हो चुके हैं। लिहाजा, पुलिस प्रशासन पर भी सवालिया निशान खड़े होना लाजमी है, क्योंकि बाड़मेर की ऐसी घटनाएं पुलिस लापरवाही को भी सामने लाती है।

दरअसल, कर्नल सोनाराम चौधरी 15 अगस्त यानी कि बुधवार को अपने संसदीय क्षेत्र बाड़मेर के चौहटन इलाके में किसी सामाजिक कार्यक्रम से वापस बाड़मेर की तरफ लौट रहे थे। इस दौरान निंबड़ी के पास गाड़ी में सवार आधा दर्जन लोगों ने सांसद के वाहन को ओवरटेक करने का प्रयास किया। हालांकि सांसद के साथ कुछ लोग भी थे और उनके निजी सुरक्षाकर्मी भी शामिल थे। बताया जा रहा है कि चौहटन-अहमदाबाद रोड पर उन्होंने गाड़ी महाबार गांव की तरफ ले ली। लेकिन महाबार गांव से होकर गुजरने वाली नोखड़ा रोड पर फिर से यह वाहन सवार ओवरटेक करते हुए उनकी गाड़ी के सामने आए और उन्होंने गाड़ी रुकवाकर लाठियों और हॉकी से कांच तोड़ने शुरू कर दिए। इस हमले में गाड़ी को काफी नुकसान पहुंचा है। इस घटना में सांसद के वाहन चालक के हाथ के भी चोटें आई हैं। घटना की तत्काल जानकारी सदर थाना पुलिस को भी दी गई। जिसके बाद सदर थाना पुलिस मौके की तरफ रवाना हुई और सांसद को सुरक्षित थाने लेकर पहुंची। थाने में सांसद के पहुंचने के बाद समर्थकों की भीड़ जुटी शुरू हो गई और कुछ ही देर में हजारों की तादाद में लोग सदर थाने के आगे एकत्रित हो गए। उन्होंने थाने के आगे सांसद जिंदाबाद और पुलिस प्रशासन मुर्दाबाद के भी नारे लगाकर विरोध जाहिर किया।

फायरिंग की घटना गलत सूचना

इस घटना के संबंध में पुलिस विभाग के सूत्रों से हुई बातचीत में अभी तक यह बात स्पष्ट नहीं हो पाई है कि कर्नल सोनाराम चौधरी के वाहन पर किसी भी तरह की से फायरिंग की घटना हुई या नहीं? पुलिस सूत्रों की माने तो फायरिंग की घटना नहीं हुई है। हालांकि, यह बात सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बनी हुई रही कि सांसद की गाड़ी में सवार सुरक्षाकर्मी गौरव ने सांसद के बचाव में हवाई फायर किए थे।

पुलिस महकमा जुटा तलाश में

पुलिस अधिकारी घटना की जानकारी मिलने पर बाड़मेर के सदर थाना पहुंचे। जिला पुलिस अधीक्षक मनीष अग्रवाल अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक रामेश्वर मेघवाल पुलिस उपाधीक्षक समेत विभिन्न थानों के थाने का जाब्ता सदर पहुंचा। वहीं बाड़मेर के उपखंड अधिकारी तहसीलदार पटवारी समेत दूसरी अधिकारी भी सदर थाने पहुंचे और हालातों के बारे में जानकारी अधिकारियों से ली।

सासंद को शांति अपील करनी पड़ी

सदर थाने के आगे बड़ी तादाद में समर्थन उमड़ पड़े और उन्होंने प्रशासन और पुलिस के खिलाफ नारेबाजी शुरू की। ऐसे में सांसद कर्नल सोनाराम चौधरी को बाहर आना पड़ा। उन्होंने बाहर पुलिस के वाहन में लगे लाउडस्पीकर पर लोगों से अपील की कि वह किसी भी तरीके से कानून हाथ में ना लें और ना ही ऐसी घटना कारित करें जिससे शांति भंग हो।

तीसरी बार हमला

वर्ष 2014 में बीजेपी ज्वाइन करने के बाद जब जसवंत सिंह का टिकट कटवा कर वो भाजपा प्रत्याशी बने तब प्रचार के दौरान हरसानी क्षेत्र में कर्नल सोनाराम चौधरी पर हमला हुआ। उसके बाद एक विवाह समारोह में खरता राम नामक व्यक्ति ने उनके थप्पड़ मार दिए और उसके बाद यह एक और घटना प्रकाश में आई है। इसके बाद से पुलिस की सुरक्षा व्यवस्था पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं। लोगों के अनुसार सांसद पर इस तरह निशाने पर हैं तो आम जनता सुरक्षित कैसे होगी ?

Leave a comment