मिसाल बन रही है सरहदी बाड़मेर की यह महिलाएं

जागरूक टाइम्स 435 Mar 8, 2020

देश भर में 8 मार्च को विश्व महिला दिवस मनाया जाएगा। इस दिन देश की आधी आबादी की हिम्मत और देश को दिए गए योगदान और सामाजिक तानेबाने में उनकी अहमियत को सजदा किया जाएगा। आज हम बात कर रहे है पश्चिमी राजस्थान के भारत पाकिस्तान सीमा पर बसे बाड़मेर की उन चुनिंदा महिलाओं की जिन्होंने समाज की अग्रिम पंक्ति में अपना परचम लहराया है। पेश है खास कहानी उन मर्दानी की जो कुछ से खास बन गई।

रूमा देवी
राजस्थान के सरहदी बाड़मेर में रूमा देवी संघर्ष, हिम्मत और कामयाबी की मिसाल है। भारत-पाकिस्तान सीमा पर स्थित बाड़मेर के बेहद पिछड़े गांव मंगला बेरी की रूमा देवी वर्ष 2019 में देशभर में चर्चित शख्सियत भी रही हैं। पहले विश्व महिला दिवस 2019 को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के हाथों नारी शक्ति अवार्ड मिला। फिर जुलाई में रूमा देवी को डिजायनर ऑफ द ईयर 2019 का अवार्ड से नवाजा गया और सितंबर 2019 में रूमा देवी कौन बनेगा करोड़पति के कर्मवीर एपिसोड में भी रूमा देवी नजर आईं।

केबीसी में 12 सवालों के जवाब देकर साढ़े बारह लाख रुपए जीते।संघर्ष, मेहनत और कामयाबी की मिसाल का नाम रूमा देवी है। 31 साल पहले राजस्थान के सरहदी जिले बाड़मेर के गांव रावतसर में खेताराम और इमरती देवी के घर जन्मी रूमा देवी वर्तमान में बाड़मेर, जैसलमेर और बीकानेर जिले के 75 गांवों की करीब 22 हजार महिलाओं को रोजगार मुहैया करवा रही हैं। बाल विवाह के बाद बाड़मेर के गांव मंगला बेरी की बहू बनकर आई रूमा देवी ने बाड़मेर की कशीदाकारी और चटक रंगों के कपड़े की खुशबू दुनियाभर में बिखेरी है। रूमा देवी 20 सितम्बर 2019 को कौन बनेगा करोड़पति शो की हॉट सीट और 15 फरवरी 2020 को अमेरिका की हावर्ड यूनिवर्सिटी में लेक्चर देती दिखाई दी।





Leave a comment