ख़बर का असर : सरहदी मीठड़ाऊ मे सरकारी शराब के ठेके को हटाने का निर्णय, ग्रामीणों में खुशी

जागरूक टाइम्स 367 Aug 2, 2018

-ग्रामीणो ने जागरूक टाइम्स का आभार व्यक्त किया 

चौहटन @ जागरूक टाइम्स

कस्बे के सरहदी मिठडाऊ गांव के ग्रामीणों द्वारा करीब 15 दिन पूर्व सरकारी शराब के ठेके को हटाने के लिए व गांव को शराब मुक्त करने के लिए एक आंदोलन शुरू किया गया था। जिसमें आखिर गुरुवार को जीत हासिल हुई। इसके साथ ही शराब के ठेके को हटाने पर मोहर लग गई। शराबबंदी के सामूहिक निर्णय एवं गांव में शराब की दुकान बंद करवाने के लिए धरनेे के रूप मे शुरू की गई मुहिम रंग लाई, जब प्रशासन द्वारा गांव में चल रही शराब की दुकान की लोकेशन को बदलकर दुकान को हटाने का निर्णय लिया गया। मिठडाऊ में गुरुवार से शराब की दुकान बंद किए जाने के निर्णय से जहां गांव में जबरदस्त ख़ुशी का माहौल है। वहीं आसपास के गावों में भी शराबबंदी के लिए एक सकारात्मक सन्देश पहुंचा है। 

शराब के नशे से तीन युवा बने थे काल का ग्रास 

करीब 25 दिन पहले एक सड़क दुर्घटना में मिठडाऊ गांव के तीन युवकों की मौत हो गई थी। जिससे गांव सहित समूचे सरहदी इलाके में शोक फैल गया था। इस घटना से आहत होकर ग्रामीणों ने सामूहिक बैठक कर निर्णय लिया था कि न तो शराब पीएंगे और न ही शराब परोसेंगे और ना ही शराबी का गांव में प्रवेश होगा। इस सामूहिक निर्णय के साथ ही ग्रामीणों ने मिठडाऊ में चल रही शराब की दुकान बंद करने को लेकर धरना प्रदर्शन शुरू किया था। साथ ही जिला प्रशासन को इसके लिए ज्ञापन सौपकर प्रदर्शन को जारी रखते हुए सरकारी शराब के ठेके को बंद करवाने कि मांग की थी। गुरुवार को शराब की दुकान हटाए जाने के निर्णय से मिठडाऊ गांव सहित समूचे सरहदी इलाके में खुशी छा गई। वहीं इस खबर को जागरूक टाइम्स समाचार पत्र व जागरूक टीवी में 'सरहदी गांव से उठी आवाज़, पाक से बड़ी दुशमन बनी शराब' के शीर्षक से प्रमुखता से प्रकाशित किया था। ग्रामीणों सहित प्रताप मेघवाल ने जागरूक टाइम्स का आभार व्यक्त किया है। 

विधायक का आदर्श गांव

मिठडाऊ गांव चौहटन विधायक तरूणराय कागा का आदर्श गांव है। जहां से शराबबन्दी की मुहिम शुरू होने से इसके मुकाम तक पहुंचने में विधायक ने भी अपना समर्थन दिया था। इस निर्णय के बाद स्वयं विधायक तरूणराय कागा ने भी खुशी जताई। वहीं ग्रामीणों ने इसके लिए विधायक का आभार जताया।

Leave a comment