अहंकार से सत्ता, धन और रूप का क्षय : स्वामी प्रतापपुरी

जागरूक टाइम्स 168 Aug 6, 2018

बाड़मेर @ जागरूक टाइम्स

श्री हिंगलाज धाम सेवा समिति की ओर से जसाई स्थित हिंगलाज धाम में शिव महापुराण कथा जारी है। कथा के दसवें दिन स्वामी प्रतापपुरी महाराज ने कहा कि जिनके भीतर ज्ञान, भक्ति, वैराग्य नहीं होता है, उनके मन में काम, क्रोध, लोभ, मोह, अहंकार शीघ्र उत्पन होगा। अहंकार करने से सत्ता, धन, रूप का क्षय हो जाता है। उन्होने कहा कि कुछ चीजें दिखती नहीं हैं, लेकिन होती है। जैसे श्राप, आशीर्वाद ये फलीभूत होती है। कथा में उन्होंने नारद द्वारा विष्णु भगवान को श्राप देने के प्रसंग को विस्तार से बताया।

हिंगलाज धाम सेवा समिति के सचिव नेमीचन्द शारदा ने बताया कि इस अवसर पर प्रियंका चौधरी यूआइटी चैयरपर्सन ने हिंगलाज धाम के दर्शन किए। कथा के दौरान भगवानसिंह सगतसिंह तंवर खारीया ने आरती की। इस अवसर पर इन्द्रसिंह भाटी, द्वारकसिंह धांधल, कानसिंह राजपुरोहित रड़वा, सांवलसिंह भोपा परा, भीखाराम ग्वारीया, गेमरसिंह कोटेचा, नगसिंह कोटेचा और हिंगलाज धाम सेवा समिति सदस्य एवं भारी संख्या में मातृशक्ति व भक्तगण उपस्थित रहे। कथा के प्रति भक्तजनों में अपार उत्साह देखा जा रहा है। कथा आयोजन प्रतिदिन दोपहर 1 बजे से 3 बजे तक हिंगलाज धाम जसाई में किया जा रहा है। कथा स्थल पर भक्तजनों के लिऐ भोजन प्रसादी की व्यवस्था की गई है।

Leave a comment