सूरजदेवी हत्याकाण्ड प्रकरण : न्याय की मांग को लेकर अनिश्चितकालीन धरना 11 वें दिन भी जारी

जागरूक टाइम्स 397 Jun 21, 2019

बाड़मेर : करीब दो माह पूर्व गेहूं रोड़ पर एक विवाहिता की संदेहास्पद परिस्थितियों में फांसी के मामलें में न्याय की मांग को लेकर पिड़ित परिवार का अनिश्चितकालीन धरना गुरूवार को 11 वें दिन भी जारी रहा। गुरूवार को सुरजदेवी प्रकरण में न्याय की मांग को लेकर पिड़ित परिवार सहित समाज के सैकड़ो लोगों ने जिला कलेक्टर व अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक को ज्ञापन सौंपकर निष्पक्ष जांच की गुहार की।

सुरजदेवी हत्याकांण्ड संघर्ष समिति ने घटना के दो माह बाद भी पुलिस द्वारा नामजद आरोपियों को गिरफ्तार नहीं करने और पुलिस पर आरोपियों के साथ सांठ-गांठ का आरोप लगाते हुए कहा कि पुलिस द्वारा सुरजदेवी की हत्या को आत्महत्या में तब्दील कर मामलें को रफा-दफा करने व आरोपियों को बचानें में लगी हुई है। यहीं नहीं धरने देने के बाद ही पुलिस ने आनन फानन में दो जनों को गिरफ्तार कर जांच अधिकारी बदल दिया। लेकिन इस पूरे प्रकरण में मुख्य आरोपी अभी भी पुलिस गिरफ्त से बाहर है। इसको लेकर पूरे समाज में आक्रोश व्याप्त है।

पिड़ित परिवार ने प्रशासन को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर जल्द ही इस मामलें में न्याय नहीं मिला तो उग्र आंदोलन किया जाएगा। गौरतलब है कि गत 28 अप्रेल को रात को 2 बजे घर के आंगन में सूरजदेवी पत्नि भीखाराम सुथार का शव फंदे से लटका हुआ मिला। मृतका के पीहर पक्ष के अनुसार उसका शरीर पूर्ण रूप से क्षत विक्षत होने के साथ मारपीट व घाव के निशान थे। वहीं इसके पांव जमीन पर टीके हुए थे, तथा अन्य साक्ष्यों के आधार पर साफ पता चलता है कि सूरजदेवी ने आत्महत्या नहीं की है बल्कि उसकी निर्मम तरीकें से हत्या की गई थी।

लेकिन पुलिस राजनैतिक रसूक के दबाव में हत्या के मामलें को आत्महत्या में तब्दिल कर आरोपियों को बचा रही है। ज्ञापन के दौरान गणेश बिंजाणी, पूनमाराम, मोहन बाघमार, तेजाराम, गणेश माकड़, गोविंद माकड़, प्रताप, सवाई, भैराराम, लाधूराम, अमोलक, प्रहलाद माकड़, मोती, डूंगराराम सहित सैकड़ो लोग मौजूद रहें।


Leave a comment