नर्मदा नहर विस्तार पर मंत्री से यह बोले बाड़मेर के किसान

जागरूक टाइम्स 300 Aug 31, 2018

ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज मंत्री के आश्वासन के बाद किसान प्रतिनिधिगण ने अपनी सहमति देकर प्रस्तावित महापड़ाव की वापसी की घोषणा की

बाड़मेर।  जिला मुख्यालय पर कलेक्ट्रेट कांफ्रेस हाल में गुरूवार को ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज मंत्री राजेन्द्र राठौड़ की उपस्थिति में नर्मदा नहर विस्तार सहित किसानों की विभिन्न समस्याओं पर चर्चा एवं निस्तारण के लिए प्रान्तीय भारतीय किसान संघ राजस्थान प्रदेश के प्रतिनिधिगण के साथ बैठक का आयोजन किया गया। 


यह भी पढ़े : निर्वतमान छात्रसंघ अध्यक्ष कांता ग्वाला का भाई गिरफ्तार

बैठक की शुरूआत में ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज मंत्री राजेन्द्र राठौड़ ने भारतीय किसान संघ, राजस्थान प्रदेश के प्रतिनिधियों का स्वागत किया। इसके उपरांत संघ की ओर से समय- समय पर किए गए आन्दोलनों, ज्ञापनों एवं वार्ताओं के माध्यम से किसानों की समस्याओं को सरकार एवं जनप्रतिनिधियों को अवगत करवाया गया। इन मांगो के लिए किसान संघ की ओर से 27 अगस्त को चेतावनी सभा का आयोजन किया गया। साथ ही 31 अगस्त से अनिश्चितकालीन महापड़ाव प्रस्तावित किया गया हैं। 

यह भी पढ़े : कांग्रेस ने घोषित की दो जिलों और 50 ब्लॉकों की कार्यकारिणी

बैठक में बिन्दूवार चर्चा की गई। इस दौरान नर्मदा नहर के विस्तार के संबंध में ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज मंत्री राठौड़ ने विस्तृत चर्चा के उपरान्त अवगत करवाया गया कि नर्मदा नहर परियोजना के अन्तर्गत राजस्थान राज्य में बाड़मेर जिले को आवंटित निर्धारित मापदण्डानुसार पानी उपलब्ध करवाने के लिए राज्य सरकार कटिबद्ध है। इसके लिए मुख्यमंत्री से समय लिया जाकर 16 सितंबर के उपरांत प्रमुख शासन सचिव, जल संसाधन विभाग, मुख्य अभियन्ता, नर्मदा नहर परियोजना राजस्थान जयपुर एवं भारतीय किसान संघ के प्रतिनिधियों के साथ उच्च स्तरीय बैठक का आयोजन किया जाकर इसके लिए ठोस समाधान निकाला जाएगा।

उन्होंने आश्वस्त किया कि आवंटित जल की पूर्ण आवक क्षमता के विचार के साथ-साथ वर्तमान में नहरी अवसरंचनाओं को ध्यान में रखते हुए अतिरिक्त संसाधनों, अवसरंचनाओं की फिजीबलिटी पर भी विचार एवं समीक्षा करने के साथ इसके उपरांत राज्य स्तर पर आवश्यक कदम उठाए जाएंगे। इसके अतिरिक्त गुड़ामालानी क्षेत्र में नर्मदा नहर परियोजना बाबत अधिषाषी अभियंता के पद सृजन पर भी सहानुभूतिपूर्वक विचार किया जायेगा। 

यह भी पढ़े : अगले सप्ताह बैंकों में रहेगी लंबी छुट्टियां, लेनदेन में हो सकती है परेशानी 

इस पर किसान संघ की ओर से सहमति दी गई। इस दौरान राठौड़ ने अवगत करवाया कि यदि माही परियोजना के अन्तर्गत पानी की आपूर्ति बाड़मेर जिले में करवाने के लिए प्रयास किये जाते है तो माही परियोजना से लाभान्वित लोगों द्वारा आपत्ति प्रकट की जा सकती है। अतः इस मांग पर बिना किसी विचार व समीक्षा के आश्वासन नही दिया जा सकता है। उन्होंने किसानों की क्रेडिट कार्ड की मांग के संदर्भ में संबंधित अधिकारियों को पाबन्द करते हुए आश्वासन दिलाया कि जिन किसानों के क्रेडिट कार्ड हेतु आवेदन किया गया है उसका नियमानुसार आवेदन के एक माह के भीतर निस्तारण कर पालना से अवगत कराएं। 

यह भी पढ़े : सफाई कर्मचारियों की भर्ती रिजल्ट पर हाईकोर्ट की रोक

साथ ही जिला कलक्टर को भी निर्देशित किया कि वे किसानों प्रतिनिधियों एवं बैंकर्स के साथ बैठक आयोजित कर उक्त समस्या के निराकरण के लिए आवश्यक कार्यवाही करें। इस दौरान राठौड़ ने अवगत करवाया कि गौवंश संवर्धन हेतु राज्य सरकार द्वारा नन्दी गौशालाओं की स्थापना और गौशालाओं के लिए अनुदान दिया जा रहा है। साथ ही गौवंश संवर्धन, ओरण, गोचर संरक्षण के लिये भी सरकार नियमानुसार कार्यवाही करेगी। 

यह भी पढ़े : मंत्री को काले झंडे दिखाने वाले 6 जनों को पुलिस ने गिरफ्तार कर किया पाबंद

बैठक में जिला कलक्टर शिवप्रसाद मदन नकाते ने राठौड़ को अवगत कराया कि लूणी नदी में रतनपुरा, गुड़ामालानी सड़क मार्ग एवं पुल मरम्मत कार्यो की स्वीकृति जारी की जा चुकी है। कार्य शीघ्र ही प्रारम्भ किये जायेगें। ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज मंत्री राठौड़ ने स्वीकृत कार्यो को अविलम्ब प्रारम्भ कर समस्या का निस्तारण करवाने के लिए सम्बंधित अधिकारी को पाबन्द करने के लिए निर्देशित किया। जिला कलक्टर शिवप्रसाद मदन नकाते ने राठौड़ को अवगत कराया कि फसल बीमा के अन्तर्गत खरीफ फसल 2016 के दौरान बाड़मेर जिले में यूनाईटेड इंडिया इंश्योरेंस कम्पनी अधिकृत थी।

कम्पनी ने 170 करोड़ रूपये का फसल बीमा सेटलमेंट किया था। किसानों और बैंकर्स के शिकायतों पर जिला प्रशासन द्वारा किये गये प्रयासों से अब तक 328 करोड़ रूपये का भुगतान किया जा चुका है। इसी तरह खरीफ फसल 2017 में बजाज एलाइन्स कम्पनी द्वारा 237 करोड़ रूपये का सेटलमेंट किया गया। इसके विरूद्ध कम्पनी की ओर से 95 करोड़ रूपयों की सूची संबंधित बैंको को भेजी गई है। उक्त संदर्भ में राठौड़ ने किसान प्रतिनिधियों को यह आश्वासन दिलाया कि फसल बीमा के अन्तर्गत सम्बंधित बीमा कम्पनी द्वारा जारी सूचियों का भुगतान इसी सप्ताह काश्तकारों के खातों में करवा दिया जायेगा। साथ ही शेष रही राशि एवं सूचियां सम्बंधित बीमा कम्पनी इसी सप्ताह तैयार कर संबंधित बैंको को उपलब्ध करवाएगी। 

अनुदान राशि से कोई किसान वंचित नही रहेगा

इस अवसर पर ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज मंत्री राजेन्द्र राठौड़ ने फसल खराबे से हुए नुकसान के विरूद्ध दिये जाने वाले कृषि आदान अनुदान की राशि से कोई भी काश्तकार वंचित नही रहेगा। जिनका गिरदावरी में नाम दर्ज है। उक्त संदर्भ में जिला कलक्टर ने अवगत करवाया गया कि अभाव संवत 2072 के तहत 405917 काश्तकारों को राशि 344.22 करोड़ रूपये,  अभाव संवत 2073 के दौरान 388501 काश्तकारों को राशि 354 करोड़ रूपये तथा अभाव संवत 2074 के दौरान 115343 काश्तकारों को राशि 101.31 करोड़ रूपये का कृषि आदान अनुदान प्रभावित काश्तकारों को उपलब्ध करवाया गया है।

अभाव संवत 2073 एवं 2074 में शेष रहे काश्तकारों को भी कृषि आदान अनुदान उपलब्ध करवाये जाने की कार्यवाही पूर्ण तत्परता से की जा रही है। इस दौरान राठौड़ ने डिस्काम के अधिकारियों को बाद समीक्षा के निर्देशित किया कि जिन विद्युत कनेक्शन आवेदनों पर डिमांड राशि जमा की जा चुकी है। उन कनेक्शनों के लिए विभाग के पास उपलब्ध सामग्री को सम्बंधित आवेदको को 10 सितंबर तक उपलब्ध करवाई जाए। साथ ही दीनदयाल उपाध्याय विद्युतीकरण योजना के अन्तर्गत अधीक्षण अभियन्ता को प्राप्त हुए आवेदनों का नियमानुसार कार्ययोजना तैयार कर विभागीय निर्देशों के अनुसार जल्दी से जल्दी कनेक्शन जारी किए जाएं।

इस दौरान फसल ऋण, साख सीमा की मांग के संदर्भ में उपस्थित विभागीय अधिकारी ने बताया कि वर्ष 2018-2019 में शीर्ष बैंक जयपुर द्वारा खरीफ 2018 के लिए 600 करोड़ रूपये के लक्ष्य आंवटित किये गये थे। इसके विरुद्ध बैंक ने खरीफ 2018 में 596.64 करोड़ रूपये का ऋण वितरण किया गया जो लक्ष्यों का 99.44 प्रतिशत है। खरीफ 2018 का ऋण वितरण ऋण माफी योजना 2018 में व्यवस्थापकों के व्यस्त होने के कारण पूर्व में स्वीकृत साख सीमाओं के मार्फत किया गया है।

आगामी ऋण वितरण माह अक्टूबर 2018 में नई साख सीमाओं के अन्तर्गत किया जाना सुनिश्चित कर लिया जाएगा। समस्त मांगों पर ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज मंत्री राजेन्द्र राठौड़ की ओर से दिए गए आश्वासनो, निर्देशो पर किसान प्रतिनिधिगण ने अपनी सहमति देकर प्रस्तावित महापड़ाव की वापसी की घोषणा की। ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज मंत्री राजेन्द्र राठौड़ ने सबका आभार जताया। 

बैठक में जेडीए के चैयरमैन महेन्द्रसिंह राठौड़, जिला कलक्टर शिवप्रसाद मदन नकाते, अतिरिक्त जिला कलक्टर राकेश कुमार, भारतीय किसान संघ जोधपुर प्रान्त के प्रांतीय अध्यक्ष दलाराम बटेसर, डिस्काम के अधीक्षण अभियंता एम.एल.जाट, दी बाड़मेर सेन्ट्रल कॉ-ओपरेटिव बैंक लिमिटेड बाड़मेर के प्रबंधक निदेशक शुद्वोदन उज्ज्वल, कृषि विस्तार बाड़मेर के उपनिदेशक, भारतीय किसान संघ, जोधपुर प्रान्त के प्रांत मंत्री हरीराम मांजू, भारतीय किसान संघ बाड़मेर के जिलाध्यक्ष पेमाराम सोयल, भारतीय किसान संघ बाड़मेर के जिला मंत्री प्रहलाद राम सियोल, भारतीय किसान संघ गुड़ामालानी के तहसील अध्यक्ष कृष्ण कुमार चौधरी, तहसील मंत्री गुड़ामालानी खेताराम चौधरी समेत विभिन्न अधिकारी एवं जनप्रतिनिधिगण उपस्थित रहे।

ताज़ा खबरों के लिए हमें फॉलो करे फेसबुक | इंस्टाग्राम  | ट्विटर 

Leave a comment