हुंकार रैली से वेंटिलेटर पर पहुंची भाजपा सरकार : बेनीवाल

जागरूक टाइम्स 1043 Jul 2, 2018

- आनंदपाल पुण्यतिथि पर हनुमान बेनीवाल का बड़ा बयान, बाड़मेर विधायक व यूआईटी चेयरपर्सन पर साधा निशाना 

- बोले- प्रदेश मे महिला मुख्यमंत्री लेकिन महिलाएं सुरक्षित नहीं

- बीजेपी राजस्थान की तीसरी पार्टी, कांग्रेस व तीसरे मोर्चे के बीच होगा 2019 का चुनाव

बाड़मेर @ जागरूक टाइम्स
खींवसर विधायक हनुमान बेनीवाल ने कहा कि राजस्थान में बीजेपी की स्थिति तीन नम्बर पर आ गई है। आने वाले चुनाव कांग्रेस और हनुमान बेनीवाल के तीसरे मोर्चे के बीच होंगे। उन्होंने कहा कि हुंकार रैलियों के माध्यम से राजस्थान के आमजन ने जगह-जगह से हुंकार भरी। हुंकार रैलियों से भाजपा सरकार वेंटिलेटर पर चली गई है। उसी का नतीजा है कि सरकार ने स्टेट हाईवे का टोल माफ किया और किसानों को कर्ज माफी से थोड़ी राहत दी। वे सोमवार को बाड़मेर प्रवास के दौरान शहर के सर्किट हाऊस में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे।
खींवसर विधायक ने कहा कि सरकार ने स्वामीनाथन की रिपोर्ट लागू नहीं की। इसलिए किसानों की लड़ाई अभी जारी है। नागौर, बाड़मेर, बीकानेर, सीकर के बाद अब जयपुर में हुंकार भरेंगे और जब तक सरकार हमारी मांगों को मांग नहीं लेती तब तक आंदोलन जारी रहेगा। राजस्थान की जनता बीजेपी से आहत है। वहीं प्रदेश के लोगों का समर्थन देखते हुए बीजेपी का अस्तित्व ही समाप्त होने जैसा लग रहा है। राजस्थान की बड़ी पार्टी बीजेपी अब तीसरी पार्टी बनकर रह गई है। उन्होंने कहा की 2019 में राजस्थान के विधानसभा चुनाव कांंग्रेस व हनुमान बेनीवाल के तीसरे मोर्चे के बीच लड़े जाएंगे। 

उनरोड़ प्रकरण में स्थानीय नेता खिंचवा रहे फोटो

उन्होंने कहा कि प्रदेश में कानून नाम की कोई चीज नहीं है। उन्होंने सूबे की मुखिया वसुंधरा राजे पर निशाना साधते हुए कहा कि राज्य में महिला मुख्यमंत्री होते हुए भी महिलाओं पर अत्याचार थमने का नाम नहीं ले रहे। ये बड़ी बिडम्बना है। उन्होंने उनरोड़ प्रकरण का हवाला देते हुए कहा कि स्थानीय नेता केवल फोटो खिंचवाकर शेयर करने में लगे हैं, उन्हें पीडि़त परिवार से उनका कोई लेना देना नहीं है। ऐसे दुष्कर्मी दरिंदों को फांसी की सजा होनी चाहिए, जिसने मासूम के साथ दुष्कर्म कर उसकी हत्या कर दी। 

वोटों के लिए राजनीति नहीं करें, बल्कि छोड़ दें

आनंदपाल पुण्यतिथि से बाड़मेर की राजनीति में भूचाल सा मच गया है। सवाल के जवाब में बेनीवाल ने कहा कि आंनदपाल जैसे कुख्यात अपराधी के लिए सरकार ने पांच लाख तक का बड़ा इनाम घोषित किया था। ऐसे अपराधियों को समाज के शहीदों के साथ श्रद्धांजलि देना कहां तक उचित है? उन्होंने कहा कि स्थानीय विधायक मेवाराम जैन, यूआईटी चैयरपर्सन प्रियंका चौधरी मात्र वोटों की राजनीति के लिए ऐसे मौके पर गए थे। जिससे बाड़मेर की जनता को गहरा आघात पहुंचा है। उन्हें बाड़मेर की जनता से माफी मांगनी चाहिए। ऐसे नेताओं को राजनीति को ही छोड़ देना चाहिए।

पूर्व मुख्यमंत्री गहलोत से नहीं छूट रहा बंगले का मोह 

खींवसर विधायक हनुमान बेनीवाल ने पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर फिर अपने शब्दों के बाण चलाए। खिंवसर विधायक हनुमान बेनीवाल ने कहा कि अशोक गहलोत अपने आप को गांधीवादी कहते हैं, लेकिन जयपुर में सरकारी बंगले का मोह नहीं छोड़ पा रहे। सुप्रीम कोर्ट ने पूर्व मुख्यमंत्रियों को बंगला खाली करने के लिए कहा, लेकिन वे मान नहीं रहे। उन्होंने सवाल खड़ा किया कि यह कैसी गांधीवादी विचारधारा है। बेनीवाल ने कहा कि मौजूदा सीएम वसुंधरा राजे और पूर्व सीएम अशोक गहलोत के बीच आपस में भ्रष्टाचार का गठबंधन एक-दूसरे को बचाने का हो रखा है। कोई किसी के खिलाफ कार्रवाई नहीं करेगा और पांच-पांच साल के लिए सत्ता हस्तांतरण होता रहेगा।

Leave a comment