बाड़मेर पहुंचा 'रोशनी का कारवाँ'

जागरूक टाइम्स 90 Nov 4, 2019

बाड़मेर : गूगल्स सोसायटी की तरफ से महिला सशक्तिकरण के लिए शुरू की गई 'रोशनी हेल्पलाइन' को अखिल भारतीय स्तर पर एक आंदोलन के रूप में फ़ैलाने के उद्देश्य से 'रोशनी का कारवाँ' कैंपेन की शुरुआत की गई है। शनिवार को जोधपुर में केंद्रीय जल शक्ति मंत्री श्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने इस अभियान की शुरुआत झंडी दिखा कर की थी। आज ये कारवाँ अपने पहले पड़ाव बाड़मेर पहुँचा।

यहाँ पहुंच कर ग्रामीण विकास एवं चेतना संस्थान में रूमा देवी को मालाणी क्षेत्र में रोशनी हेल्पलाइन के बारे में जागरूकता में सहयोग के निवेदन सहित ध्वज सौंपा। यहां पहुँचने पर महिला दस्तकारों से बात करते हुए सोसाइटी की अध्यक्ष सुमन अग्रवाल ने बताया कि जोधपुर से शुरू हो कर यह अभियान न केवल राजस्थान बल्कि देश के विभिन्न राज्यों में रोशनी हेल्पलाइन के बारे में जागरूकता बढ़ाएगा। रूमा देवी ने बताया कि इस कैंपेन का उद्देश्य महिला सशक्तिकरण के नए मॉडल को अपनाना है जहाँ महिलाएं न केवल सामाजिक और आर्थिक तौर पर स्वावलम्बी हैं अपितु स्वस्थ मन-बुद्धि-काया की सनातनी परंपरा के अनुरूप खुद के साथ-साथ देश के सर्वांगीण विकास में सहभागी बनें।

चर्चित लेखिका, कॉरपोरेट प्रशिक्षक, बॉक्सर और भरतनाट्यम नृत्यांगना रोशनी राजाराम को रोशनी हेल्पलाइन के ब्रांड अम्बेसडर के रूप में इस अभियान के अखिल भारतीय संचालन से जोड़ा गया है। आज अपने उद्बोधन में उन्होंने ग्रामीण महिलाओं से आव्हान किया कि वे खुद के हुनर को निखार कर स्वावलंबी बनें।

जब विश्व के विभिन्न क्षेत्रों में 'मी टू' जैसे कैंपेन के ज़रिए महिलाएं और बच्चियाँ अपनी आपबीती साझा कर रहीं थीं और समाज में इस विषय पर बहस छिड़ी हुई थी, तब गूगल्स सोसाइटी ने महिला उत्पीड़न के मामलों में जागरूकता पैदा करने, असहाय क्षणों में सहायता की उम्मीद रखने वाली महिलाओं को अपने मन की बात साझा करने के लिए 'रोशनी हेल्पलाइन' की स्थापना की।

तत्कालीन पुलिस कमिश्नर बीजू जोसफ जॉर्ज के सक्रिय सहयोग से इस हेल्पलाइन के ज़रिए हज़ारों महिलाओं की तरफ सहायता का हाथ बढ़ाया गया। इस अवसर पर धारा संस्थान के महेश पनपालिया, क्रिकेटर भवेन्द्र जाखङ, प्रशिक्षक मोहनी देवी सहित दस्तकार महिलाएं उपस्थित रही।


Leave a comment