एसबीआई में एजेंटराज : बैंक से ऋण लेने के लिए बनाना होगा एजेंट

जागरूक टाइम्स 380 Jul 6, 2018

- नियमों की धज्जियां उड़ाता बैंक प्रशासन
-एसबीआई के इस ब्रांच मे बच्चा रोने पर निकाल दिया जाता है बैंक से बाहर

धोरीमन्ना @ जागरूक टाइम्स
बाड़मेर जिले के उपखंड मुख्यालय पर स्थित भारतीय स्टेट बैंक में स्थानीय कर्मचारियों द्वारा खाताधारकों को आए दिन परेशान किया जा रहा है। वहीं कर्मचारियों द्वारा चाहे रुपये उठाओ या जमा करो, हर बार आधार कार्ड की प्रतिलिपि मांगी जा रही है। साथ ही अगर किसी किसान को बैंक ऋण लेना होता है तो बैंक मैनेजर तक फाइल भेजने के लिए एजेंट बनाना पड़ता है। एजेंट की फीस करीबन आठ हजार से दस हजार के मध्य होती है। जिसमें एजेंट व मैनेजर द्वारा फिफ्टी-फिफ्टी राशि का बंटवारा करते हैंं। एजेंट के बिना यदि आम आदमी बैंक से संपर्क करता है या बैंक मैनेजर से ऋण लेने के लिए पहुंचता है तो उसे मैनेजर द्वारा नियमों का हवाला देकर बाहर निकाल दिया जाता है। लेकिन, यदि ऋण के लिए अगर एजेंट से संपर्क साधा जाए तो चंद मिनटों में ही काम हो जाता है। वहीं बैंक प्रशासन ने जनधन योजना के अधिकांश खाते बन्द कर दिए हैं, जिससे कई लोगों की पेंशन आना बंद हो गई है और पेंशन धारी इधर-उधर भटकने को मजबूर है।

बैंक के काउंटर में एजेंटों का जमावड़ा
भारतीय स्टेट बैंक का हालात यह है कि बैंक में लोगों की लंबी-लंबी कतारें लगी रहती हैं। लेकिन, जिस खाता धारक का काम लाइन में लग कर एक घण्टे से होता है वो काम एजेंट द्वारा सीधे काउंटर में प्रवेश करके कुछ ही मिनटों में कर लिया जाता है।

बच्चा रोया तो बाहर का रास्ता
बैंक में बच्चे के रोने की आवाज आई तो उस मां को बैंक से बाहर का रास्ता दिखा दिया जाता है। कोई माता अगर अपने छोटे बच्चे को साथ लेकर आती है तो उसका बच्चा रोये ना इस बात का भी उसे ख्याल रखना पड़ता है। क्योंकि अगर बच्चे के रोने की आवाज़ कर्मचारियों के कानों तक पहुंचती है तो उस खाताधारक माता व बच्चे को बैंक परिसर से बाहर निकाल दिया जाता है।

बिना एजेंट, ऋण नहीं
किसी खाताधारक को अगर धोरीमन्ना भारतीय स्टेट बैंक से ऋण लेना है तो 8 से 10 हजार रुपये देकर उसे एजेंट तय करना होगा। अगर ऐसा नहीं किया जाता है तो मैनेजर द्वारा ऋण की स्वीकृति नहींं दी जाती है।

कैशियर का विडियो वायरल
गौरतलब है कि कुछ दिन पूर्व ही एक बैंक कार्मिक विडियो वायरल हुआ था, जिसमे वो कह रहा था कि यदि कोई खाताधारक शाम चार बजे के बाद बैंक पहुंचेगा तो उसे बैंक परिसर मे झाड़ू लगानी पड़ेगी। वायरल विडियो इसी बैंक के कैशियर संजीव कुमार का बताया जा रहा है।  

Leave a comment