डीडवाना जेल से फरार हत्या के आरोपी ने साथी के साथ मिलकर ज्वैलर को लूटा

जागरूक टाइम्स 578 Apr 10, 2019

सीकर (ईएमएस)। दो दिन पहले ज्वैलर की रैकी कर गहने व नकदी की वारदात करने वाले दो बाइक सवार लुटेरों को लोसल पुलिस ने गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार सुरेंद्रङ्क्षसह डीडवाना जेल से फरार हो चुका है और दूसरा आरोपी श्रवण सालासर में मिठाई की दुकान पर काम करता था। दोनों बदमाश ज्वैलर से तीन जोड़ी चांदी की पायजेब, एक सोने की अंगूठी, एक टोपस सोने का व ५२४० रुपए रखा बैग छीनकर ले गए थे।

लोसल पुलिस दोनों बदमाशों से पूछताछ कर रही है। पुलिस अधीक्षक डॉ. अमनदीप ङ्क्षसह कपूर ने बताया कि लूट के दो आरोपियों श्रवण सिहं पुत्र पेपसिह निवासी बंदवा-चूरू व सुरेंद्रङ्क्षसह पुत्र रूपङ्क्षसह निवासी सारड़ी-नागौर को गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने बताया कि मुरारी सोनी पुत्र सत्यानारायण सोनी निवासी वार्ड १९ बंशीवाला कॉलेज के पीछे, शाी नगर लोसल ने मुकदमा दर्ज कराया था कि लोसल में मदन गोशाला के सामने उसकी भगवती ज्वैलर्स के नाम से दुकान है। आठ अप्रैल की रात सवा नौ बजे वह थैले में तीन जोड़ी चांदी की पायजेब, सोने की एक अंगूठी, एक जोड़ी सोने के टोपस तथा ५२४० रुपए रखकर घर जा रहा था।

रात को साढ़े नौ बजे बंशीवाला कॉलेज के पीछे एक बिना नंबरी मोटरसाइकिल सवार दो युवक आए। उन्होंने बाइक को उसके आगे लगाकर दिया और थैला छीनकर भाग गए। दोनों के भागने पर उसने शोर मचाया तो आसपास के काफी लोग आ गए। दोनों बदमाशों का काफी पीछा किया, लेकिन उनका कुछ पता नहीं लगा। लोसल थानाधिकारी रामकिशन यादव ने लूट का मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू की है। उन्होंने बताया कि हैड कांस्टेबल रामगोपाल, गोपालराम, कांस्टेबल मुकेश, चालक प्रभुदयाल का सराहनीय कार्य रहा।

लूट की वारदात के बाद बदमाश बाइक लेकर फरार हो गए। पुलिस टीम को सूचना मिली कि बदमाश ङ्क्षसगरावट की ओर बिना नंबर की बाइक लेकर भागे हैं। पुलिस टीम ने करीब पांच किलोमीटर तक बदमाशों का पीछा किया। पुलिस टीम ने घेराव कर दोनों को पकड़ लिया। थानाधिकारी ने बताया कि सुरेंद्रङ्क्षसह के खिलाफ वर्ष २००९ में डीडवाना में हत्या का मुकदमा दर्ज हुआ था। उसे एडीजे डीडवाना ने उम्रकैद की सजा सुनाई थी।

बाद में उसे हाईकोर्ट से जमानत मिल गई। वह २०११ में सबजेल डीडवाना से फरार हो गया था। श्रवणङ्क्षसह सालासर में देवकी मिष्ठान भंडार पर नौकरी करता था। सवाईङ्क्षसह निवासी जुलियासर ने सुरेंद्र से उसकी दोस्ती करवाई। इसके बाद दोनों ने व्यापारी को लूटने की योजना बनाई। दोनों ने छह अप्रैल को मुरारीलाल सोनी की मदन गोशाला के सामने से लेकर वार्ड१९ शाी नगर तक रैकी की। इसके बाद वारदात को अंजाम दिया।


Leave a comment