अध्यक्ष अमित शाह से रमेंद्र सिह ने मुलाकात कर राजसंमद से अपनी दावेदारी की पैश

जागरूक टाइम्स 560 Mar 23, 2019

शनिवार को दिल्ली स्थित भाजपा पाट्री कार्यालय मे रमेंद्र सिह ने अमितशाह से मुलाकात कर राजसमंद संसदीय क्षैत्र अपनी दावेदारी पैश कर अपने 20वर्षो मे किये गये राजनैतिक व सामाजिक कार्यो का लेखा जोखा प्रस्तुत कर अपनी दावेदारी की करीब आधे घण्टे चली मुलाकात मे राठौड द्वारा अपनी जीत के समीकरणो को बडी गंभीरता से सुना और बताया की पाट्र्री संसदीय बौर्ड मे गभीरता के साथ नाम पर चर्चा कर स्थानीय कार्यकर्ताओ व जनता के विस्वास को ध्यान मे रख कर निर्णय लेने का आश्वासन दिया

हर पल बदलती सियासत के चलते यह अंदाजा अभी से लगा पाना मुश्किल है कि चुनावी अखाड़े में कौन किस को चित करेगा। राजसमंद से लोक सभा की सीट के लिए भाजपा की ओर से जनता में अपना विश्वास खो चुके वर्तमान संांसद हरिओम सिंह राठौर के हाथ खड़ा करने के बाद कई नाम उभरकर आ रहे हैं उनमें से कई बड़े रसूख वाले हैं लेकिन राजनीतिक अनुभव शून्य है।

विश्व हिदू परिषद, ंआाएसएस कार्यकर्ता व एबीवीपी के प्रदेश उपाध्यक्ष रहे रमेंद्र सिंह राठौर की भाजपा की ओर से प्रबल दावेदारी मानी जा रही है। वर्तमान सांसद से नाराज अधिकतर जनता की खाईं पाटने में सक्षम कर्मठ, ईमानदार व बेदाग छवि वाले युवा नेता रमेंद्र सिंह राठौर पर भाजपा दांव लगा सकती है। 2014 के लोक सभा और छात्र संघ के चुनावों में इतिहास रचने वाले रमेंद की युवाओं में खासा पकड़ है जोड़ तोड़ और ऐन मौके पर चुनाव का रुख अपने पक्ष में करने के महारथी रमेंद्र की सेटिंग कई बड़े व छुटभइये कांग्रेसी नेताओं से भी है जो कभी भी भाजपा का दामन थामने की फिराक में बैठे हैं।

वहीं पैराशूट लैंडिंग कर अचानक राजनीति में आईं प्रियंका गांधी जिन्होंने अभी तक एक भी जल प्याउ भी नहीं लगवाया है उनके दम पर राहुल गांधी कांग्रेस की नैय्य्ाा पार लगाने के चक्कर में हैं। लेकिन राबर्ट वाड्रा पर लगे भ्रष्टाचार के गम्भीर आरोपों के दाग छुड़ा पाना प्रियंका के लिए मुश्किल है। अभी हाल ही में हुए विधान सभा के चुनाव में कांग्रेस के हीरो रहे सचिन पायलट मुख्यमंत्री न बनाये जाने काफी हताश हैं अभी वे इस गम से नहीं उबर पाये हैं।

अब वो जीत का सेहरा अशोक गेहलोत के सर पर नहीं बांधना चाहते हंै जबकि अशोक गेहलोत को अब राजस्थान से अपनी जमीन खिसकती नजर आ रही है। इसीलिए कांग्रेस के दो कदावर नेताओं की चाल ढ़ीली नजर आ रही है। कांग्रेस अपनी अंदरुनी कलह की वजह से आम जनता में विश्वास नही कायम कर पा रही है।

राजसमंद में बीजेपी और काग्रेस के अलाावा किसी भी पार्टी की जनता पर पकड़ ना के बराबर है। ऐसे में विभिन्न विश्वविद्यालयों में योगा पढ़ाने वाले योग गुरु व लाॅ ग्रेजुएट रमेंद्र की भाजपा प्रत्याशी के रुप में प्रबल दावेदारी मानी जा रही है जो कि भाजपा की लोक सभा की सीट निकाल पाने में सक्षम हैं। जबकि भाजपा के अन्य दावेदारों के पास कार्यकर्ताओं का भी अभाव है लेकिन अथाह धन है। पाली जिले के रायगढ़ के मेसिया के रहने वाले रमेंद्र को राजसमंद के बहुसंख्यक युवा राजपूतों के अलावा अन्य बिरादरी के युवकों का भी समर्थन प्राप्त है। रमेंद्र के पिता दलपत सिंह, छोटे नाना बने ंिसंह संघ के लम्बे समय तक सक्रिय कार्यकर्ता के रुप में योगदान दे चुके हैं। माता श्रीमती मोहन कंवर भी राष्ट्रीय सेवा समिति की कार्यकर्ता रही हैं।

Leave a comment