कोरोना मरीजों के नाम का क्यों किया जाना चाहिए खुलासा

जागरूक टाइम्स 186 Jul 10, 2020

-याचिका पर सुनवाई के दौरान मुंबई हाईकोर्ट का सवाल

मुंबई(ईएमएस)। बंबई उच्च न्यायालय ने शुक्रवार को पूछा कि कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों के नाम का खुलासा क्यों किया जाना चाहिए, कोर्ट ने कहा कि यह मुद्दा ऐसे मरीजों की निजता के अधिकार से जुड़ा है। न्यायमूर्ति एए सैयद और न्यायमूर्ति एमएस कार्णिक की खंडपीठ ने दो लोगों की याचिका पर सुनवाई करते हुए यह टिप्पणी की। याचिका में कोरोना संक्रमित मरीजों के नामों का खुलासा करने का आग्रह किया गया, ताकि उनके संपर्क में आए लोगों का पता लगाया जा सके। कानून की छात्रा वैष्णवी घोलवे और सोलापुर के एक किसान महेश गाडेकर ने यह जनहित याचिका दायर की है।
पीठ ने कहा, कोविड-19 से पीड़ित व्यक्ति की पहचान का खुलासा करने में किस हद तक जाया जा सकता है? निजता का अधिकार इसमें जुड़ा है। अधिकारी किसी के संक्रमित पाए जाने पर किसी विशेष स्थान या इमारत को निषिद्ध क्षेत्र के तौर पर घोषित करते हैं, ताकि लोगों को इसके बारे में पता चल सके। क्या यह पर्याप्त नहीं है? आप क्यों जानना चाहते हैं कि कौन-सा व्यक्ति संक्रमित पाया गया है? उच्च न्यायालय ने इस याचिका पर महाराष्ट्र सरकार से भी जवाब मांगा। पीठ मामले में अगली सुनवाई दो हफ्ते बाद करेगी।



Leave a comment