राज ठाकरे को महागठबंधन में शामिल करने की तैयारी में शरद पवार

जागरूक टाइम्स 189 Feb 14, 2019

- शरद पवार की कहीं ये नई रणनीति तो नहीं ?

- उत्तर भारत में कांग्रेस को नुकसान होने के आशंका

मुंबई (ईएमएस)। लोकसभा चुनाव में बीजेपी को टक्कर देने के लिए विपक्षी दलों ने महाराष्‍ट्र नवनिर्माण सेना (एमएनएस) प्रमुख राज ठाकरे को महागठबंधन में शामिल करने के लिए गतिविधियां तेज कर दी हैं. सूत्रों की मानें तो राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) सुप्रीमो शरद पवार समेत पार्टी के लगभग सभी बड़े नेता राज ठाकरे को महागठबंधन में शामिल करने को लेकर स्‍वीकृति दे चुके हैं. खासकर पवार चाहते हैं कि राज ठाकरे महागठबंधन में शामिल हों ताकि महाराष्ट्र में एनसीपी को लोकसभा तथा विधानसभा चुनाव में लाभ मिल सके.

हालांकि महाराष्ट्र में कांग्रेस के कई उत्तरभारतीय नेता एमएनएस को महागठबंधन में शामिल नहीं करने की लगातार मांग कर रहे हैं. इसकी वजह कांग्रेस को उत्तर भारत में भारी नुकसान होने की बात कही जा रही है. दरअसल राज ठाकरे शुरू से परप्रांतियों के खिलाफ हैं. एमएनएस के कार्यकर्ताओं ने तो मुंबई, ठाणे, कल्याण समेत महाराष्ट्र के कई शहरों में उत्तरभारतीयों पर निशाना साधा है और उनके साथ मारपीट की घटना भी सामने आ चुकी है.

पूर्व में राज ठाकरे परप्रांतियों के खिलाफ भड़काऊ भाषण दे चुके हैं. कुछ साल पहले तो ठाकरे के बयान के बाद एमएनएस के कार्यकर्ताओं द्वारा उत्तरभारतीयों को निशाना बनाये जाने से भारी संख्या में मजदुर तबका अपने राज्य लौट गया. जिससे महाराष्ट्र में सैकड़ों की संख्या में कल-कारखाने बंद हो गए और मजदूरों का भारी अभाव हो गया है. यानि उत्तरभारतीयों के बीच राज ठाकरे और उनकी पार्टी एमएनएस की छवि खलनायक वाली है तो ये कहना गलत नहीं होगा. ऐसे में उत्तरभारत में लोगों का कांग्रेस से मोहभंग हो सकता है. ऐसी बात दबी जुबान से कांग्रेस के कुछ वरिष्ठ नेताओं ने कही. उक्त नेताओं की मानें तो शरद पवार एमएनएस को महागठबंधन में शामिल करने की जो पैरवी कर रहे हैं वो शायद उनकी कोई नई रणनीति हो सकती है जिससे कांग्रेस को नुकसान उठाना पड़ सकता है.



Leave a comment