'मुंबई डूब गई...का शोर मचानेवाले अब कहां'- शिवसेना

जागरूक टाइम्स 267 Jul 7, 2018


- नागपुर में हुई भारी बारिश के बहाने शिवसेना ने भाजपा सरकार पर बोला हमला

मुंबई । एक बार फिर शिवसेना ने नागपुर की बारिश के बहाने केंद्र और राज्य की फडणवीस सरकार पर हमला बोला है. शिवसेना ने कहा कि केंद्र और राज्य दोनों जगह बीजेपी की सरकार है, बावजूद इसके नागपुर शहर कुछ घंटों की बारिश में ही ठप हो गया, जहां आरएसएस का मुख्यालय है. ऐसे में यह बीजेपी के लिए चिंता की बात है. इसके साथ ही पार्टी ने मुंबई में बारिश होने पर मुंबई महानगरपालिका और शिवसेना को जिम्मेदार ठहराए जाने को लेकर भी सवाल उठाए हैं.

शिवसेना ने पार्टी मुखपत्र 'दोपहर का सामना' के संपादकीय में लिखा है, 'शुक्रवार सुबह से शुरू हुई मूसलाधार बारिश ने नागपुर शहर को अस्त-व्यस्त ही नहीं बल्कि पूरी तरह ध्वस्त कर दिया है. विधानभवन में पानी घुसने से विधि मंडल सत्र का कामकाज स्थगित करने की नौबत आ गई. खुद मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की कर्मभूमि कुछ घंटों की बरसात से जलमग्न हो गई. इसे देखकर सीएम निश्चित व्यथित हुए होंगे.

' केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी को निशाने पर लेते हुए शिवसेना ने लिखा, 'विकास पुरुष की पहचान रखने वाले नितिन गडकरी का यह शहर है. अपने लाडले शहर की आज जो दुर्दशा हुई है उसे देखकर गडकरी को जरूर वेदना हुई होगी.' केंद्र पर निशाना साधते हुए संपादकीय में लिखा गया है, 'बीजेपी की जननी आरएसएस का मुख्यालय यहीं पर है.

केंद्र और राज्य में बीजेपी सत्ता में है. इसके अलावा नागपुर महानगरपालिका में भी बीजेपी के लोग सत्ता के कामकाजी कुर्सियों पर विराजमान हैं. ऐसा होने के बावजूद बारिश के पानी से देश का 'हाई प्रोफाइल' शहर ठप हो गया. ऐसे में बीजेपी की वहां किस तरह मुसीबत बढ़ी है, इसे समझते हुए ताली पीटने का वक्त नहीं है.'

- 'सिर्फ मुंबई महानगरपालिका पर ठीकरा न फोड़े सरकार'
बारिश में मुंबई के ठप होने पर शिवसेना और महानगरपालिका को दोषी ठहराए जाने को लेकर भी पार्टी ने अपने संपादकीय में सरकार को निशाने पर लिया है. संपादकीय में लिखा गया है कि , 'कई घंटों तक जब बारिश होती है तो उस समय महानगरपालिका द्वारा की गई तैयारी भी लड़खड़ा जाती है.

हालांकि उसके लिए सिर्फ महानगरपालिका को दोष देने से नहीं चलेगा....ऐसे समय पर सिर्फ महानगरपालिका पर ठीकरा फोड़कर सरकार अपनी जिम्मेदारी से मुंह न मोड़े...पालिका में किसकी सरकार है, इस पर सूबे की सरकार की नीति तय नहीं होनी चाहिए'.

शिवसेना ने अपनी नाराजगी जताते हुए लिखा है, 'मुंबई के सिर्फ निचले हिस्सों में बित्ता भर पानी जमा होने से 'मुंबई डूब गई' का शोर मचाने वाले बयानवीर अब कहां हैं.....मुंबई महानगरपालिका और शिवसेना के खिलाफ किसी को कितना भी शोर करने दो, लेकिन कुछ घंटों की बरसात में नागपुर क्यों डूबा....इस पर हमें कुछ नहीं कहना है..।'

Leave a comment