बुजुर्ग माता-पिता बेटे से वापस ले सकते हैं गिफ्ट में दी संपत्ति : हाईकोर्ट

जागरूक टाइम्स 127 Jul 17, 2018

मुंबई । बांबे हाईकोर्ट ने कहा है कि अगर कोई संतान अपने बुजुर्ग माता-पिता की ठीक से देखभाल नहीं करती है या उन्हें सताती या परेशान करती है, तो बुजुर्ग उन्हें गिफ्ट में दी गई संपत्ति वापस ले सकते हैं। बांबे हाईकोर्ट के जस्टिस रंजीत मोरे और अनुजा प्रभुदेसाई की बेंच ने एक ट्रिब्यूनल के आदेश को सही ठहराते हुए इस सिलसिले में सीनियर सिटिजंस के लिए बनाए गए स्पेशल कानून का हवाला दिया।

 ट्रिब्यूनल ने बुजुर्ग माता-पिता के अनुरोध पर बेटे-बहू को गिफ्ट की गई प्रॉपर्टी की डीड कैंसल कर दी थी। बेटे-बहू ने इसके खिलाफ हाईकोर्ट में अपील की थी। यह चर्चित मामला अंधेरी के एक वरिष्ठ दंपति का है। उन्होंने अपने बेटे को एक गिफ्ट डीड देते हुए फ्लैट का पचास फीसदी हिस्सा उसके नाम कर दिया। सन 2014 में एक शख्स की पहली पत्नी का निधन हो गया। पिछले साल जब उन्होंने दूसरी शादी करनी चाही तो उनके बेटे और उसकी पत्नी ने उनसे अनुरोध किया कि वह अपने अंधेरी फ्लैट का कुछ शेयर उन लोगों के नाम ट्रांसफर कर दें। 

उसके पिता ने दूसरी शादी की और फ्लैट का पचास फीसदी हिस्सा उनके नाम कर दिया। लेकिन ऐसा होने के बाद बेटे और उसकी पत्नी ने उनको सताना शुरू कर दिया। परेशान होकर बुजुर्ग मां-बाप ट्रिब्यूनल पहुंचे और गिफ्ट डीड कैंसल करने की मांग की। 


ट्रिब्यूनल ने उनके हक में फैसला दिया। ट्रिब्यूनल के फैसले के खिलाफ बेटा व उसकी पत्नी ने हाईकोर्ट में अपील की। बेंच ने कहा कि पैरंट्स ने वह गिफ्ट अपने बेटे व उसकी पत्नी के अनुरोध पर इसलिए दी थी कि बुढ़ापे में वे लोग उनकी देखभाल करेंगे। बेटे और बहू ने दूसरी पत्नी की वजह से ऐसा किया नहीं। इन हालात में हमें ट्रिब्यूनल के फैसले में कोई गलती नजर नहीं आती।

Leave a comment