राउत के बयान पर डैमेज कंट्रोल करने में जुटी शिवसेना, आदित्य ठाकरे ने कहा गठबंधन मजबूत

जागरूक टाइम्स 197 Jan 18, 2020

मुंबई (ईएमएस)। शिवसेना नेता और राज्यसभा सांसद संजय राउत के सावरकर का विरोध करने वालों को जेल भेजने वाले बयान पर शिवसेना डैमेज कंट्रोल करने में जुट गई है। पार्टी नेता और महाराष्ट्र सरकार में मंत्री आदित्य ठाकरे ने राउत के बयान से किनारा कर कहा कि उन्होंने इसपर सफाई दे दी है और इस बयान से गठबंधन पर कोई असर नहीं होगा। दरअसल राउत ने कहा था कि सावरकर को भारत रत्न देने का विरोध करने वालों को उसी जेल में भेज देना चाहिए, जहां सावरकर को अंग्रेजों ने रखा था ताकि उनके संघर्षों का एहसास हो सके।

बता दें कि कांग्रेस के सीनियर नेता पृथ्वीराज चव्हाण ने एक दिन पहले ही यह बयान दिया था कि मोदी सरकार अगर सावरकर को भारत रत्न देती है,तब इसका विरोध किया जाएगा। इस बयान पर शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे ने कहा,राउत ने जिस संदर्भ में बयान दिया है, उन्होंने वह साफ कर दिया है। शिवसेना-कांग्रेस-एनसीपी गठबंधन मजबूत है और हमलोग राज्य के विकास के लिए साथ आए हैं। हमलोगों के बीच कुछ मुद्दों पर मतभेद हो सकते हैं, लेकिन यही तो लोकतंत्र है। इतिहास के बावजूद हमलोगों को मौजूदा मसलों पर बातचीत करने की जरूरत है।'

दरअसल संजय राउत ने कहा है कि सावरकर के योगदान के बारे में किसी को तब ही पता चल सकता है जब उस अंडमान-निकोबार की उसी जेल में डाल दिया जाए, जहां सावरकर को रखा गया था। गौरतलब है कि कांग्रेस नेता और पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के सावरकर को लेकर दिए बयान के बाद से ही दोनों पार्टियों के बीच टकराव जारी है। कुछ दिन पहले राउत ने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को लेकर विवादित बयान दे दिया था। वहीं, महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने कहा कि सावरकर के अंग्रेजों से माफी मांगने की बात मिटाई नहीं जा सकती और अगर नरेंद्र मोदी सरकार उन्हें 'भारत रत्न' देती है,तब पार्टी उसका विरोध करेगी।


Leave a comment