मुंबई से मजदूर गए थे ट्रेन और पैदल, बिल्डर बुला रहे हैं कार और प्लेन से

जागरूक टाइम्स 531 Jul 7, 2020
मुंबई : देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में लॉकडाउन के लंबे चरणों के बाद अनलॉक के दौर में आर्थिक गतिविधियों को तेज करने की भरसक कोशिश की जा रही है। इकॉनमी के रुके पहिए को चलाने में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले मजदूरों को कार से, यहां तक कि फ्लाइट का टिकट देकर भी बुलाया जा रहा है। लॉकडाउन से परेशान होकर जो मजदूर भारी मशक्कत के बाद किसी तरह श्रमिक स्पेशल ट्रेनों से अपने गांव गए थे। कई मजदूर तो पैदल ही अपने घर आ गए थे। वे अब ट्रेनों के टिकट न मिल पाने के कारण लौट नहीं पा रहे हैं। बिल्डर निर्माण कार्य शुरू करने के लिए उन्हें खास तौर पर बुला रहे हैं। कुछ अन्य उद्योगों में भी गए हुए मजदूरों को इस तरह बुलाने की जुगत की जा रही है।

लॉकडाउन के चलते गांव चले गए स्टाफ को वापस बुलाने के लिए बिल्डर उन्हें फ्लाइट के टिकट दे रहे हैं। फिलहाल यह सुविधा साइड सुपरवाइजर या अन्य प्रमुख पदों पर काम करने वाले स्टाफ को दी जा रही है। रौनक ग्रुप के राजन बांदेकर ने कहा, ‘हमने अपने 10-12 स्टाफरों को फ्लाइट से बुलाया। अन्य लोगों को गाड़ी से बुलाया। हालांकि काम में अभी गति नहीं है, लेकिन इन्हें वापस बुलाना जरूरी था। सरकार के हवाई किराए को नियंत्रित करने की बदौलत हम अपने कुछ स्टाफ को यह सुविधा दे पा रहे हैं।’ बिल्डर असोसिएशन ऑफ इंडिया के आनंद गुप्ता ने बताया, ‘हमने अपने तमाम मजदूरों को गाड़ियों से बुलाया है। करीब 150 लेबर आ चुके हैं।’

कई अन्य बिल्डर भी मजदूरों को वापस बुलाने के लिए सभी विकल्प देने का दावा कर रहे हैं। प्रजापति कंस्ट्रक्शन के राजेश प्रजापति कहते हैं, ‘साइट पर काम करने के लिए जरूरी जदूरों को हम हर हाल में बुलाना चाहते हैं। मैंने बिहार से कुछ स्टाफ को हवाई मार्ग से आने की पेशकश की, लेकिन उनके घर से एयरपोर्ट काफी दूर है। इसीलिए उन्हें कार का भाड़ा ऑफर किया।’ इसी तरह की जुगत में लेबर कॉन्ट्रैक्टर साजिद गोरी भी लगे हुए हैं। साजिद के मुताबिक, ‘हमारे मजदूर मध्य प्रदेश और बंगाल में हैं। हम उन्हें आने के लिए हर साधन दे रहे हैं। अगले एक-दो सप्ताह में कुछ के आने की उम्मीद है। हालांकि कुछ ईद और रक्षाबंधन के बाद आने की बात कह रहे हैं।’ रिजेंसी ग्रुप के महेश अग्रवाल भी मजदूरों के इस लॉकडाउन के बाद लौटने की उम्मीद जता रहे हैं।

Leave a comment