आप‎त्तिजनक बयान देने वाले विधायक के बोलने पर भाजपा ने लगाई रोक

जागरूक टाइम्स 76 Sep 7, 2018

मुंबई । लड़कियां भगाने में मदद करने का खुला ऑफर देने वाले विधायक के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए दबाव झेल रही भाजपा ने विधायक राम कदम के किसी चैनल पर चर्चा में जाकर बोलने पर रोक लगा दी है। जानकारी के मुता‎बिक पार्टी नेतृत्व ने राम कदम को मौखिक आदेश दिया है कि वह चैनलों पर होने वाली चर्चा में पार्टी के प्रतिनिधि की हैसियत से भाग न लें। वहीं लड़कियां भगाने में मदद करने का खुला ऑफर देने वाले बीजेपी विधायक के खिलाफ सामाजिक और राजनीतिक स्तर पर लगातार बयानबाजी जारी है।

इसी बीच कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व राज्यमंत्री सुबोध सावजी ने भी राम कदम को लेकर एक भड़काऊ बयान दिया है। उन्होंने राम कदम की जीभ काटकर लाने वाले को 5 लाख रुपए इनाम देने की घोषणा कर डाली है। इस बात की संभावना जताई जा रही है कि महिलाओं के सम्मान को ठेस पहुंचाने वाले बयान के बाद पार्टी उन्हें प्रवक्ता पद से भी हटा सकती है। हालांकि पार्टी ने विवादास्पद बयान देने के 72 घंटे बाद भी उनके खिलाफ कोई ठोस कार्रवाई नहीं की है, जिसे लेकर विपक्षी पार्टियां भी बीजेपी पर हमलावर हैं।
गौरतलब है ‎कि विधायक राम कदम पार्टी के अधिकृत प्रवक्ता हैं।

इधर, एनसीपी की वरिष्ठ नेता सांसद सुप्रिया सुले ने राम कदम के खिलाफ कोई कार्रवाई न करने को लेकर सीधे मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को जमकर खरीखोटी सुनाई है। बारामती के पास एक सार्वजनिक सभा में उन्होंने कहा राम कदम के आपत्तिजनक बयान का मुख्यमंत्री को सार्वजनिक रूप से खंडन करना चाहिए था। अगर मुख्यमंत्री खंडन नहीं करना चाहते तो उन्हें राम कदम के खिलाफ कार्रवाई लेना चाहिए।

उनके खिलाफ शिकायत दर्ज करानी चाहिए। अगर वह मामले को नहीं संभाल पा रहे तो उन्हें मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे देना चाहिए। तीन दिन बाद राज्य महिला आयोग ने विधायक के गैर जिम्मेदाराना बयान पर खुद संज्ञान लेते हुए नोटिस जारी किया है, जिसमें कदम से 8 दिन में जवाब देने को कहा गया है। महाराष्ट्र समेत देश भर में महिलाओं द्वारा राम कदम के खिलाफ तीखी प्रतिक्रियाएं व्यक्त करने के बाद बीजेपी और उसके अनुषांगिक संगठन भी कदम के खिलाफ सड़क पर उतर रहे हैं।

Leave a comment