मुंबई में ७ महीनों में ९,९४३ हादसे, १३७ की मौत, ५७९ घायल

जागरूक टाइम्स 149 Sep 7, 2019

मुंबई (ईएमएस)। मायानगरी मुंबई जिसे सबसे सुरक्षित शहर माना जाता है. यह शहर सपनों और उम्मीदों का शहर भी कहलाता है. यहां हर रोज हजारों लोग सपने लेकर आते हैं. इसमें कईयों के सपने पूरे होते हैं तो कई ऐसे लोग भी होते हैं जो वापस लौट जाते हैं. लोगों की इस बढ़ती भीड़ के कारण अब मुंबई की व्यवस्था डगमगाने लगी है और यह शहर हादसों का शहर बनता जा रहा है. आपको ये जानकर हैरानी होगी कि महज पिछले ७ महीनों में मुंबई में हुए अलग-अलग ९,९४३ हादसों में १३७ लोगों ने अपनी जान गंवाई है जबकि ५७९ लोग घायल हुए. मुंबई में सबसे ज्यादा घटनाएं आग लगने व शार्टसर्किट की घटीं जबकि सर्वाधिक मौत मकान गिरने तथा कुएं, तालाब, नाले और मेनहोल में गिरने/डूबने से हुई. मनपा के आपातकालीन कक्ष के अनुसार मुंबई में पिछले ७ महीनों में ९,९४३ हादसे दर्ज हुए हैं. इनमें ९२ पुरुष तथा ४५ महिलाओं की मौत हुई है.

जबकि ३७२ पुरुष एवं २०७ महिलाएं घायल हुई हैं. दरअसल आरटीआई कार्यकर्ता शकील अहमद शेख को मनपा के आपातकालीन कक्ष द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार मुंबई में पिछले ७ महीनों में आग लगने और शॉर्टसर्किट होने की ३०३२ घटनाएं घटीं. इनमें ९ पुरुष व ८ महिलाओं सहित १७ लोगों की जान चली गई, जबकि ८५ पुरुष और ४२ महिलाएं घायल हुई. मकान गिरने की ६२२ घटनाओं में २६ पुरुष और २५ महिलाओं सहित ५१ लोगों की मौत हो गई. वहीं १२४ पुरुष व १०३ महिलाएं घायल हुईं. इसी तरह समुद्र, नाले, कुएं आदि में गिरने/डूबने की १०३ घटनाओं में ३३ पुरुष और ६ महिलाओं सहित ३९ लोगों की मौत हो गई, साथ ही २७ लोग घायल हुए. इसी तरह पेड़, पेड़ की डाली गिरने से ५, करंट लगने से ५ सड़क धंसने से ११ पुल गिरने से ६ गैस लिकेज से लोगों की मौत हुई है.


Leave a comment