महाराष्ट्र में हर रोज 7 किसान कर रहे खुदकुशी

जागरूक टाइम्स 89 Jul 12, 2018

-2018 में अब तक 1307 लोगों ने की आत्महत्या

मुंबई : महाराष्ट्र में किसानों की खुदकुशी के आंकड़े कम नहीं हो रहे हैं। आंकड़ों के मुताबिक इस साल जनवरी से अब तक 1307 किसान आत्महत्या कर चुके हैं। पिछले छह महीने की अवधि में हर रोज औसतन 7 किसानों ने खुदकुशी की है। ऐसा तब है जब पिछले साल ही महाराष्ट्र में किसानों की कर्जमाफी की गई है। उल्लेखनीय है कि पिछले साल जनवरी से जून के बीच किसानों की खुदकुशी के 1398 मामले सामने आए थे।

ऐसे में यह आंकड़ा इस वर्ष जरूर 91 कम हुआ है, लेकिन अगर महाराष्ट्र के अलग-अलग क्षेत्रों की बात करें, तो कई जगह इस वर्ष खुदकुशी के आंकड़े बढ़े हैं। आधिकारिक आंकड़े के मुताबिक मराठवाड़ा क्षेत्र में इस वर्ष 477 किसानों की खुदकुशी के मामले सामने आए हैं, जबकि पिछले वर्ष यह आंकड़ा 454 था। इससे भी चिंताजनक स्थिति यह है कि विदर्भ क्षेत्र में जहां से खुद सीएम देवेंद्र फडणवीस आते हैं, इस वर्ष भी सबसे अधिक किसानों की खुदकुशी के मामले सामने आए हैं।
यहां अब तक 598 किसानों ने खुदकुशी की है। हालांकि यह आंकड़ा पिछले वर्ष के मुकाबले 58 कम है। जहां तक किसानों की कर्जमाफी की बात है, तो 77.3 लाख अकाउंट में से अब तक करीब 38 लाख किसानों को भुगतना किया गया है। भुगतान प्रक्रिया की धीमी रफ्तार ने भी किसानों की मुश्किलें बढ़ाई हैं। दरअसल, पिछले साल की तुलना में 2017-18 में फसल ऋण की लागत 40 फीसदी कम रही।

इस कारण से बकाया भुगतान नहीं होने से बैंकों से नए लोन नहीं दिए। इस वर्ष अप्रैल-मई में फसल ऋण की कुल लागत पिछले वर्ष की तुलना में 1426 करोड़ कम थी। इसी वजह से स्वयं मुख्यमंत्री देवेंद्र फडनवीस ने केंद्रीय वित्त मंत्री को पत्र लिखकर बैंकों को इस प्रक्रिया में तेजी लाने के निर्देश देने का अनुरोध किया था। 

Leave a comment