मुंबई में डांस बार पर छापा, बाथरूम के तहखाने में मिली लड़कियां

   Posted Date : 6/11/2018 7:36:44 PM

मुंबई । यूँ तो महाराष्ट्र में विगत १३ वर्षों से डांस बार पर प्रतिबंध है लेकिन स्थानीय पुलिस की मिलीभगत से डांस बार पुरे शबाब पर है और हर रोज लाखों रूपये के वारे न्यारे हो रहे हैं. हाँ ये अलग बात है कि कभी कभार या यूँ कहें कि शिकायत मिलने के बाद पुलिस छापामारी करती है परन्तु दूसरे दिन से फिर डांस बार शुरू हो जाता है. एक बार फिर पुलिस ने मुंबई में एक डांस बार पर छापा मारा है. जानकारी के अनुसार मुंबई पुलिस की एन्टी नारकोटिक्स सेल ने ग्रांट रोड के कल्पना बार में छापा मारकर 12 लड़कियों को मुक्त कराया. आपको ये जानकर हैरानी होगी कि 12 में से कुछ लड़कियां बाथरूम में बने गुप्त तहखाने में छिपी थीं. सेल के डीसीपी शिवदीप लांडे ने खुद तहखाना खुलवाकर लड़कियों को बाहर निकाला.

पुलिस ने ड्रीम लैंड सिनेमा के पास स्थित कल्पना बार में रात सवा बारह बजे छापा मारा. उस समय वहां बड़ी संख्या में ग्राहक और बार डांसर मौजूद थी. पुलिस के अंदर जाते ही भगदड़ मच गई. कुछ लड़कियां भागकर कहीं लापता हो गईं. लापता लड़कियों की तलाश में पुलिस ने जब बार का कोना -कोना तलाशना शुरू किया तब बाथरूम में छिपे तहखाने की जानकारी मिली. पुलिस ने 18 ग्राहकों के साथ बार के 9 कर्मचारियों को भी गिरफ्तार किया है. मौके से 84,600 रुपये भी जब्त किये हैं. आपको बता दें कि महाराष्ट्र सरकार ने वर्ष 2005 में डांस बार पर प्रतिबंध लगा दिया था जिसके बाद कुछ महीने तक डांस बार बंद रहे. बार बालाओं ने आंदोलन किया, कोर्ट का दरवाजा खटखटाया मगर उन्हें सफलता नहीं मिली.

इस बीच डांस बार मालिकों ने मोटी कमाई डूबता देख ऑर्केस्ट्रा बार के नाम पर डांस बार चलानी शुरू की और इसमें स्थानीय पुलिस को मोटी रकम देने की बात सामने आने लगी. कहा तो यहां तक जा रहा है कि मुंबई और ठाणे जिले में कुछ ऐसे नामचीन बार है जिसमें राजनेताओं और पुलिस अधिकारियों के पैसे लगे हुए हैं या यूं कहें कि अघोषित रूप से उनके डांस बार हैं जिस वजह से वहां पुलिस छापा नहीं डालती है. आश्चर्य की बात यह है कि बीते 13 सालों के दौरान मुंबई-ठाणे जिले में पुलिस ने सैकड़ों बार डांस बारों में छापा मारा है मगर दूसरे दिन डांस बार पूरे शबाब पर शुरू हो जाता है. इसकी वजह डांस बारों में ग्राहकों द्वारा बार बालाओं पर लुटाई जाने वाली मोटी रकम है, इसमें पुलिस को भी हिस्सा मिलता रहता है जिस वजह से स्थानीय पुलिस खामोश रहती है.

Visitor Counter :