10 मिनट में बैठक हुई समाप्त, हंगामे के बीच सर्वसम्मति से प्रस्ताव पारित

   Posted Date : 4/16/2018 8:57:34 PM

शिवगंज । शिवगंज नगरपालिका मंडल की विशेष बैठक सोमवार सुबह 11 बजे नगरपालिका सभा भवन में पालिकाध्यक्ष कंचन सोलंकी की अध्यक्षता में आयोजित की गई। बैठक से पूर्व अधिशाषी अधिकारी भीमसिंह देवल ने विचारणीय बिन्दुओं शहीद भंवरसिंह की प्रतिमा छावणी पार्क में एवं महाराणा प्रताप का सर्किल व प्रतिमा पुराना बस स्टेंड पर स्थापित करने, नरोत्तमलाल घांची कनिष्ठ लिपिक के फौजदारी प्रकरण में अभियोजन स्वीकृति पर विचार को पढकर सुनाया व उस पर चर्चा प्रारम्भ की तो विपक्ष के पार्षद प्रकाशराज मीणा ने मांग करते हुए कहा कि छावणी पार्क को शहीद पार्क घोषित कर शहीद बाबूलाल मीणा, रमेश चौधरी, चतराराम सहित सभी शहीदों की प्रतिमा स्थापित की जाये व मांग करते हुए वेल में आकर बैठ गए। इस पर नेता प्रतिपक्ष अब्बास अली, पार्षद अल्पेश माली, महेन्द्र वाघेला भी वेल में आकर मीणा के साथ बैठ गए व तीखी बहस करते हुए अधिशाषी अधिकारी देवल से मीणा की मांग को पूरा करने की बात करने लगे मगर सत्ता पक्ष के सभी पार्षदों ने विचारणीय बिन्दुओं पर सर्वसम्मति दी। विशेष बैठक १० मिनट में पूर्ण हो गयी व विपक्ष के पार्षद बैठक में शोर-शराबा करते रहे मगर उनकी बात को नजरअंदाज करते हुए दोनो प्रस्ताव पारित हो गये। बैठक में महेन्द्र परमार के अतिरिक्त सभी पार्षदगण व सहवृत सदस्य मौजूद रहे।

भाजपा के नाराज पार्षदों की रजामंदी पर हुई बैठक

पालिका की विशेष बैठक १२ अप्रैल को रखी गयी थी जिसमें चार प्रस्ताव विचारणीय थे मगर कुछ पार्षदों की नाराजगी के चलते बैठक को स्थगित किया गया व नेताओं की समझाईश के बाद बैठक १६ अप्रैल को रखी गयी जिसमें दो बिन्दु ही विचारणीय रखे गये जिन्हे सर्वसम्मति से पारित किया गया। भाजपा के ही पार्षदों द्वारा पालिका अधिशाषी अधिकारी व पालिकाध्यक्ष पर आये दिन भ्रष्टाचार के आरोप लगाए जाते है मगर वे पार्षद भी बैठक में एकजुट नजर आए।

ईओं व पालिकाध्यक्ष पर लगाया भ्रष्टाचार का आरोप

नेता प्रतिपक्ष अब्बास अली सहित सभी विपक्षी पार्षदों ने अधिशाषी अधिकारी भीमसिंह देवल व पालिकाध्यक्ष श्रीमति कंचन सोलंकी पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाते हुए कहा कि दो वर्ष से सूचना अधिकार के तहत विकास की जानकारी मांगी जाने पर भी आज तक उन्हे ऐसी कोई जानकारी उपलब्ध नही करवायी गयी है जिससे जाहिर होता है कि विकास कार्यों में भ्रष्टाचार किया गया है। इस पर पालिकाध्यक्ष सोलंकी ने चुनौती देते हुए कहा कि यदि भ्रष्टाचार सिद्ध कर दो तो मैं अपने पद से इस्तीफा दे दूंगी।

प्रस्ताव पारित होते ही बैठक कक्ष छोडा

इतने शोर-शराब के बीच विचारणीय बिन्दुओं पर सर्वसम्मति से प्रस्ताव पारित होते ही अधिशाषी अधिकारी भीमसिंह देवल व पालिकाध्यक्ष श्रीमति कंचन सोलंकी तुरन्त ही अपनी कुर्सी से उठ बैठक कक्ष से निकल गये। विपक्ष के पार्षद चर्चा करने के लिए ईओं व पालिकाध्यक्ष के जाने के बाद भी चिल्लाते रहे।

Visitor Counter :