राज्यसभा के तीनों प्रत्याशी निर्विरोध निर्वाचित

   Posted Date : 3/15/2018 7:54:09 PM

जयपुर। प्रदेश से राज्य सभा की तीन सीटों पर गुरुवार को प्रत्याशियों के निर्विरोध निर्वाचन की घोषणा हो गई। निर्वाचन अधिकारी अखिल अरोड़ा ने किरोड़ी लाल मीणा और मददलाल सैनी को निर्वाचन का प्रमाण पत्र दिया। इस दौरान भूपेंद्र यादव मौजूद नहीं थे। भाजपा की ओर से तय किए गए तीनों प्रत्याशियों के सामने प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस ने अपने किसी भी प्रत्याशी को मैदान में नहीं उतारा था। ऐसे में तीनों ही प्रत्याशियों का राज्य सभा जाने के लिए निर्विरोध निर्वाचन हो गया। भाजपा की ओर से भूपेन्द्र यादव, डॉ किरोड़ी लाल मीणा और मदल लाल सैनी को राज्य सभा प्रत्याशी बनाया था। तीनों के निर्वाचन के बाद प्रदेश के राज्य सभा की सभी दस सीटों पर भाजपा के प्रत्याशी हो गया।

इससे पहले राजस्थान से राज्यसभा की तीन सीटों पर होने वाले द्विवार्षिक निर्वाचन के लिए प्रत्याशियों की ओर से भरे गए सभी नौ नामांकन-पत्रों की मंगलवार को विधानसभा में जांच की गई, जिसमें सभी नामांकन-पत्र सही पाए गए। निर्वाचन अधिकारी अखिल अरोरा ने बताया कि भारतीय जनता पार्टी के भूपेन्द्र यादव, मदन लाल एवं किरोडी लाल मीणा के तीन-तीन नामांकन-पत्रों की निर्वाचन अभिकर्ताओं के समक्ष बारीकी से जांच की गई। नामांकन-पत्रों की जांच पर्यवेक्षक एवं मुख्य निर्वाचन अधिकारी अश्विनी भगत, सहायक रिटर्निंग ऑफिसर महेश कुमार शर्मा, तीनों प्रत्याशियों के अभिकर्ता सर्व योगेन्द्र सिंह तंवर, सौरभ सिंह समशेरी एवं नाहर सिंह महेश्वरी की मौजूदगी में की गई।

आपको बता दें कि भाजपा में किरोड़ी लाल मीणा की दस साल बाद वापसी हुई है। भाजपा में शामिल होने पर उन्होंने कहा था कि मैं राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का कार्यकर्ता हूं। संघ की एक जगह का संरक्षक भी रहा हूं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कांग्रेस मुक्त का नारा दिया था, वह पूरा हो रहा है। नॉर्थ-ईस्ट में भाजपा आई है और नॉर्थ-ईस्ट कोना शुभ होता है। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने कहा था कि किरोड़ी से उनका 1980-85 से रिश्ता है। शरीर को थोड़ासा चीरा लगा दो तो रंग एक ही निकलता है। किरोड़ी मेरे सक्षम भाई हैं। इनके वापस आने से भाजपा को मजबूती मिलेगी।

भाजपा की ओर से राज्यसभा उम्मीदवार बनाने पर पूर्व विधायक मदनलाल सैनी ने कहा कि मैं साधारण कार्यकर्ता हूं। भाजपा में ही कार्यकर्ता को ऐसा प्रतिफल मिल सकता है। राज्यसभा उम्मीदवार बनाने की सूचना मिली तब वह सीकर में थे। भाजपा प्रदेश कार्यालय में मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा था कि राज्यसभा उम्मीदवार बनाने का बिल्कुल अंदाजा नहीं था। मेरे लिए राज्यसभा नहीं, पार्टी महत्वपूर्ण है। सैनी समाज को बड़ा सम्मान दिया है। कार्यकर्ता यही सोचेगा कि मदन जैसे साधारण कार्यकर्ता को पार्टी ने इतना ऊपर पहुंचाया, तो उन्हें और मजबूती मिलेगी।

भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री और राज्यसभा प्रत्याशी भूपेन्द्र यादव का कहना था कि भाजपा में कार्यकर्ता ही शीर्ष नेतृत्व है। यहां किसी परिवार के इशारे पर फैसले नहीं होते। राजस्थान में भाजपा विकास और स्थायित्व के लिए काम कर रही है। गौरतलब है कि यह निर्वाचन कांग्रेस के अभिषेक मनु सिंधवी और नरेन्द्र बुढानिया तथा भाजपा के भुपेन्द्र यादव का छह साल का कार्यकाल पूरा होने के कारण हुआ था। कांग्रेस की ओर से इन चुनावों में अपना कोई प्रत्याशी नहीं उतारने से भाजपा को क्लीन स्वीप मिली है।

Visitor Counter :