आधार डबल सिक्योर, उंगली ही नहीं- चेहरा भी बताएगा आपकी पहचान

   Posted Date : 1/15/2018 8:07:18 PM

तमाम सेवाओं के लिए अनिवार्य होने के बाद अब आधार कार्ड की सिक्यूरिटी को और मजबूत किया जा रहा है। भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (UIDAI) ने अब आधार का नया सिक्यूरिटी फीचर जारी किया है जिसमें फिंगरप्रिंट और आंख की पुतलियों के अलावा चेहरे को भी पहचान का आधार बनाया जाएगा। प्राधिकरण ने जानकारी दी है कि सुरक्षा का यह नया फीचर इसी साल जुलाई से शुरू किया जाएगा। सोमवार को एक नोटिफिकेशन जारी करते हुए पहचान प्राधिकरण ने कहा है कि अब जब आधार कार्ड बनाया जाएगा तो नामांकन कराने वाले शख्स के चेहरे की भी फोटो ली जाएगी। यह फोटो में आधार में जुड़ने वाले विशेष फीचर से व्यक्ति को पहचानने में मदद करेगी।

इससे फीचर से लोगों की पहचान करने में आसानी होगी। साथ कहा जा रहा है कि जुलाई से नया आधार कार्ड बनवाने वाले को यह विकल्प होगा कि यदि उसकी आखों या अंगुलियों में कोई दिक्कत है और वह इनकी बजाए अपने चेहरे का वेरीफिकेशन फोटो क्लिक कराए। जानकारी में कहा गया है कि जिसने पहले आधार बनवाया है और डाटाबेस में उनकी फोटो मौजूद उन्हें दोबारा से चेहरे की फोटों खिंचाने की जरूरत नहीं है। साथ पहले से आधार रजिस्ट्रेशन का काम जिस सिस्टम में पहले से चल रहा था में उसमें किसी प्रकार के हार्डवेयर चेंज करने की जरूरत नहीं होगी। बल्कि चेहरा अब पहचान का अतिरिक्त आधार बनेगा।

अब तक 12 अंकों वाला आधार नंबर 117 करोड़ लोगों को जारी किया जा चुका है। हालांकि आधार का इस्तेमाल पहचान साबित करने के लिए होता है, लेकिन इसे नागरिकता का सबूत नहीं माना जा सकता। आधार के आधार पर लोगों को रसोई गैस पर सब्सिडी और विभिन्न योजनाओं में सरकारी मदद दी जाती है। सरकार दावा है कि आधार का इस्तेमाल कर शुरू की गयी प्रत्यक्ष हस्तांतरण योजना यानी डीबीटी में अब तक करीब 50 हजार करोड़ रुपये की बचत हुई है।

अभी स्थिति यह है कि यूआईडीएआई ने फिंगर प्रिंट और आइरिस को पहचान के लिए मान्यता दे रखी है। आधार में रजिस्ट्रेशन के वक्त फोटो लिया जाता है। अब यूआईडीएआई इस फोटो का इस्तेमाल पहचान के लिए करना चाहता है। इससे ये सुनिश्चित किया जा सकेगा कि फिंगर प्रिंट या आइरिस में दिक्कत होने पर चेहरे के जरिए पहचान हो सके।

Visitor Counter :