चौकीदार के अभाव में काटे पेड़

   Posted Date : 1/12/2018 5:36:27 PM

देसुरी उपखंड मुख्यालय स्थित गुडा खोबान मार्ग स्थित ढाई सौ बीघा जमीन नर्सरी की विद्यमान है। इस नर्सरी के खसरा नंबर 1399 में हरित राजस्थान कार्यक्रम के दौरान जिला कलेक्टरों ने खुद निरीक्षण कर सघन वृक्षारोपण किया था। मगर आज इस विशाल नर्सरी की हालत बड़ी ही दयनीय व चिंताजनक है। इस नर्सरी से कई विशाल बड़े बड़े अंग्रेजी व देशी बबूल के पेड़ काटे जा चुके हैं। एक वर्ष पूर्व इस नर्सरी में हरे भरे पेड़ मौजूद थे। मगर आज के वक्त बहुत सारे वृक्षों को काटा गया है। यह नर्सरी अब बंजर सी बन चुकी है। जिसका मुख्य कारण इस नर्सरी की देखभाल करने वाला कोई चौकीदार नही है।

> कुमटिया पेड़ को काटने पर सरकार का प्रतिबंध

देसुरी की इस नर्सरी में हजारों बीज कुमटिया के पेड़ों को पनपने के लिए डाला गया था। नरेगा श्रमिकों द्वारा समय समय पर पानी भी दिया गया जिसके चलते कुमटिया के पेड़ बड़े हुए मगर लोगो ने उन पर भी कुल्हाड़ी चला दी जबकि सरकार द्वारा कुमटिया के पेड़ को काटने पर प्रतिबंध लगा हुआ है।

> चार चार कलेक्टर नर्सरी का  कर चुके निरीक्षण

देसुरी के गुडा खूबन मार्ग स्थित इस नर्सरी में नरेगा के तहत किए गए सघन वृक्षारोपन का निरीक्षण कलेक्टर  पृथ्वीराज कलेक्टर अम्बरीष कुमार तत्कालीन कलेक्टर कुमारपाल गौतम कर चुके हैं। साथ ही इन कलेक्टरों ने नर्सरी के वृक्षारोपण के कार्य को सराहा था।

>  नर्सरी में कार्य करने को 27,02 लाख की राशि स्वीकृत

गत वर्ष 2017 दिसंबर माह में इस नर्सरी के खसरा नंबर 1399 में 27,02 लाख की सेक्शन भी कार्य करने को स्वीकृत हुई है। बावजूद उसके अभी तक एक भी चौकीदार नही लगाया गया है। जिसके चलते इस नर्सरी की दिनोदिन दुर्दशा होती जा रही है। जबकि वर्तमान जिला कलेक्टर सुधीर शर्मा भी इस नर्सरी का निरीक्षण कर चुके हैं। साथ ही उन्होंने इस नर्सरी को ओर विकसित करने तथा वृक्षारोपन करने को राशि स्वीकृत कराने की बात कही थी। जब जिला कलेक्टर सुधीर शर्मा इस नर्सरी में निरीक्षण को आए थे उस वक्त इस नर्सरी में सत्तर प्रतिशत पेड़ पौधे विद्यमान थे ।

Visitor Counter :