पिंडवाड़ा नगर पालिका में अधिशाषी अधिकारी के खिलाफ साजिश

   Posted Date : 1/10/2018 4:50:47 PM

पिण्डवाड़ा। स्थानीय नगरपालिका पिण्डवाड़ा के अधिशाषी अधिकारी के साथ राजनीतिक साजिश के तहत अपने ही विभाग में अन्याय कर दिया। जबकि उसके अधीनस्थ कनिष्ठ लेखाकार को अधिशाषी अधिकारी साथ-साथ लेखाकार का कार्यभार सौंप दिया। प्राप्त जानकारी के अनुसार पिण्डवाड़ा नगर में भाजपा बोर्ड में लगातार पार्षदों द्वारा समय-समय पर असंतोष जताने के कारण अधिशाषी अधिकारी बदलने की परम्परा रही है।

लेकिन इस बार तो स्वायत्त शासन विभाग राजस्थान जयपुर के अतिरिक्त निदेशक मुकेश कुमार मीणा ने नियमों के विरूद्ध पिण्डवाड़ा नगरपालिका अधिशाषी अधिकारी नेमीचन्द्र का रिक्त पद बताकर, उसके अधीनस्थ कनिष्ठ लेखाकर को अधिशाषी अधिकारी का कार्य भार सौंप दिया गया। जबकि अधिशाषी अधिकारी नेमीचन्द्र को न तो विभाग ने अभी तक कोई अन्य कार्यभार करने का आदेश सौंपा है और न ही अभी तक पद से हटाया गया है। ऐसे में अधिशाषी अधिकारी अगर अपने पद पर बने रहकर कार्य करते है, तो विभाग के अनुसार पिण्डवाड़ा में दो-दो अधिशाषी अधिकारी बन जायेगें।

स्वायत्त शासन विभाग अरिक्त निदेशक ने मनमानी तरीके व राजनेताओं के दबाव में आकर आनन-फानन में आदेश करना प्रतीत हो रहा है, जो एक अधिकारी के लिए अन्याय से कम नहीं है। वही यह आदेश एक अधिकारी को नीचा दिखानें वाला कत्र्य है। जिससे राजनेताओं के विरूद्ध जाति विशेष में रोष पनपा है। पिण्डवाड़ा अधिशाषी अधिकारी नेमीचन्द्र अपने पद भार ग्रहण करने के बाद में लगातार ईमानदारी से अपने कर्तव्य को निभा रहे थे, जिससे नगर में स्वद्वछता, व्यक्तिगत लाभार्थियों व नगरहित के विकास कार्यों को बढावा मिल रहा था, लेकिन कुछ स्वार्थी जनप्रतिनिधियों को मसूबों पर पानी फिर रहा था तथा उनका स्वार्थ सिद्व नहीं हो रहा था, जिसके परिणामस्वरूप एक दलित अधिकारी को राजनेताओं ने सजा दे डाली।   

इनका कहना है...
विभाग द्वारा मुझे कोई आदेश अभी तक प्राप्त नहीं हुआ है और न ही अभी तक मुझे अन्य कहीं पर लगाने का आदेश है। - नेमीचन्द्र अधिशाषी अधिकारी पिण्डवाड़ा

अनुसूचित वर्ग के कार्मिकों उत्पीडऩ नई बात नहीं है। काबिल अधिकारी को हटाकार नाकाबिल को थोपना शुभ संकेत नहीं है। समय सबको जवाब देगा। - मोहनलाल डांगी, जिला अध्यक्ष एसटी/एससी आरक्षण मंबा-सिरोही

Visitor Counter :