रोडवेज बस में 10 रूपयें का सिक्का नही लेकर यात्री कों कहा उतरनें का

   Posted Date : 10/12/2017 7:25:56 PM

फालना डिपों की बसों में 10 रूपयें के सिक्के नही लेनें सें यात्री परेशान । बुधवार कों सुबह सांण्डेराव सें करिबन 11.20 बजें फालना सें विरातरा माता जानें वाली बसें नम्बर आरजें 22 पीए 2684 में बांकली निवासी प्रविण सिंह देवडा साण्डेराव सें तखतगढ के लिए गाडी में बैठे जिसमें महज फालना संे तखतगढ का किराया 19 रूपयें का था जिसकों लेकर यात्री नें पांचों का नोट होनें पर एक दस का नोट व एक दस का सिक्का दिया जिसपर रोडवेज बस खलासी द्वारा सिक्के नही लेनें का कह कर कहा गया कि अगर पैसे नही है तों कोई बात नही गाडी सें उतर जायों । क्यु कि दस रूपयें का सिक्का नही लिया जाता है। जिसपर यात्री नें पांचों का नोट देकर उसमे सें कटवाकर अपनी यात्री पुरी की।

दस के सिक्के सरकार के मुलाजीम नही लेंगे तों लेगा कौन

बुधवार कों फालना आगर की रोडवेंज बस में जब कोई यात्राी यात्रा करता है और दस का सिक्का देता है तों एसें मना कर दिया जाता है तों यह एक सोचने की बात है कि अगर रोडवेज बस वाले भी दस का सिक्का लेनें सें मना करेंगे तों आखिर कौन लेगा दस का सिक्का।

तखतगढ उतरतें ही यात्री नें कि 181 पर शिकायत

यात्री नें टिकिट के पैसे तों दियें लेकिन जब दस का सिक्का नही लिया गया तों राजस्थान द्वारा सम्पर्क समाधान हेल्प लाईन नम्बर 181 पर यात्री नें शिकारत दर्ज करवाकर कहा गया कि अगर रोडवेज बसों वालें नही लेंगे तों कौन लेगा दस का सिक्का।

टिकिटों में दर्ज समय में भी गडबड -

मजें कि बात तों यह है कि सरकारी गाडी हों या कोई भी सरकारी जों सभी अंधेरी नगरी चैपट राजा कहावत सें खुला चरितार्थ होता दिखाई पड रहा है क्यु कि बुधवार की बात करें तों फालना आगर कि बस सुबह करिबन 11.20 बजें साण्डेराव सें रवाना हुई जों लगभग तखतगढ 11.57 तक पहुंच गई । लेकिन जब यात्रा के दौरान उस टिकिट में देखा गया तों उसमें नम्बर 000106 व समय 20 बजकर 8 मिनिट 21 सैकेंट का समय दर्ज हुआ था। जों करिबन 8 घंटे घंडी का कांटा आगे चल रहा था। अससें साफ जाहिर होता है की सरकारी गाडीया सब भगवान भरोंसें चल रही है कोई भी जिम्मेदार ध्यान नही दे रहा है।

यात्री कहिन
- रोडवेज बस में यात्रा कर रहें प्रवीणसिंह नें बताया कि यात्रा के दौरान 19 रूपयें का टिकिट था जों मेंनें एक दस का नोट व दस का सिक्का दिया तों सिक्का लेनें सें खलासी द्वारा मना कर गाडी सें उतनें का बोल दिया जिसपर तखतगढ पहुच कर मेंनें 181 राजस्थान सम्पर्क में शिकायत दर्ज करवाई है। प्रविणसिंह देवडा बांकली

क्या कहना फालना आगार प्रबंधक का -

इस मामलें कों लेकर संवावदाता नें फालना आगार प्रबंधक सें बात कि तों बताया कि रोडवेज गाडी में दस के सिक्के चलते है रोडवेज की गाडी में मना नही बोल सकतें अगर ऐसा हुआ है तों अभी शिकायत दर्ज करती हुं। फालना आगार प्रबंधक रूची पंवार।

Visitor Counter :