निजी बस के चपेट में आने से पिता-पुत्री की मौत

   Posted Date : 10/12/2017 3:57:53 PM

रामसीन। गुरूवार करीब 9 बजे जालोर रोड़ पर माण्डोली सरहद पर मामाजी मंदिर के सामने ओवरटेक व लापरवाही से चलाते समय एक साथ दो बाईक के टक्कर मारी व दूसरी बाईक सवारों को बस के नीचे कुचला मौके पर ही पिता-पुत्री की मौत, मौक पर पहुंचे एडीसनल एसपी पीडी धानियां, एसडीएम भीनमाल, तहसीलदार जसवंतपुरा। बस चालक मौके से फरार। घायलों को आगे रैफर किया गया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार जालोर रोड़ माण्डोली सरहद पर मामाजी मंदिर के सामने निजी बस टीआर जाणी ओवरटेक, लापरवाही व तेज गति से चलाते समय पहले पहले बाईक पर सवार दो जनों का उडाया जिनकों एम्बुलेंस की सहायता से आगे रैफर किया है।

जबकि दुसरी बाईक सवार दो जनों को बस के नीचे कुचल दिया जिसमें पिता नवाराम पुत्र जगाराम मेघवाल उम्र 45 वर्ष निवासी भूतवास व नपा उर्फ अलका पुत्री नवाराम उम्र 13 वर्ष निवासी भूतवास की मौके पर ही मौत हुई। पहली बाईक से ललीत कुमार मीणा व मोतीराम मीणा निवासी भूती घायल हुए है जिन्हें प्राथमिक उपचार के बाद आगे रैफर किया गया। मौके पर काफी तादाद में भीड़ जमा हो गई। ग्रामीणों व मेघवाल समाज के लोगों ने इस घटना पर भारी आक्रोस जताया लेकिन कुछ ही समय में जालोर एडीसनल एसपी पीडी धानिया पहुंचे लोगों से समझाइस कर कहा कि पुलिस द्वारा इस घटना की निष्पक्ष कार्रवाही की जाएगी उसके बाद जालोर से पुलिस जाब्ता पंहुचा और लाश को रामसीन के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र लाया गया।

जहां डाॅक्टरों की टीम द्वारा लाशों का पोस्टमार्टम करवाया गया लेकिन उसके बाद मृतकों के परीजन व मेघवाल समाज ने शवों को लेने से मना कर दिया। इस मौके पर रामसीन आपेश्वर व्यापार मंडल के अध्यक्ष श्यामसुन्दर अग्रवाल, धुडसिंह माण्डोली, दलाराम मेघवाल, रामसिंह भूतवास, खंगारसिंह, लीलाराम चैधरी, वरदाराम मेघवाल, शंकरलाल मेघवाल रामसीन सहित भारी तादात में भीड़ मौजूद थी।

पांच बेटियों के सिर से उठा बाप का छाया
मृतक नवाराम के कुल 6 पुत्रीया थी जिसमें एक पुत्री की पिता के साथ ही मौत हों गई। अब बची पांच पुत्रीयों के लिये सिर से बाप का छाया उठ गया और इन पांच बेटियों का पालन-पोषण किसके भरोसे होगा। जब बाप जिंदा था तब घर में एक साथ सभी मजदुरी करके गुजारा चला लेते थे लेकिन बाप से चले जाने से अब उनका जीवन चलाना दुभर हो गया। तभी गांव के लोगों को इस खबर की सूचना मिलते ही मातम छा गया। गांव में शोक का वातावरण था। समझाइस के बाद उठाया परिजनों व समाज के लोगों ने शवों को

करीब दोपहर 1 बजे डाॅक्टरों ने शवों का पोस्टमार्टम कर दिया था लेकिन उसके बाद परिजन व मेघवाल समाज ने शवों को लेने से इंकार कर दिया और कहा कि जबतक इस गरीब परीवार का आर्थिक सहायता नही मिलती तब तक हम इन शवों को नही उठाएंगे। उस वक्त मौके पर पर पहुंचे भीनमाल एसढीएम दौलतराम चैधरी ने कहा कि इन मृतकों का सरकार द्वारा जो भी सहायता राशि स्वीकृत होगी उन्हे में जल्द-से-जल्द दी जाएगी।

कार्यवाहक तहसीलदार भागीरथराम विश्नोई व नायब तहसीलदार कल्पेश जैन ने मृतकों के परिवारों व मेघवाल समाज को सरकारी मुआवजा व निजी बस मालिक ने भी आर्थिक सहायता देने की बात के बाद शवों को मौके से उठाया गया। इस मौके पर आरआई अर्जुनसिंह, नैनसिंह, एएसआई जाकाराम मीणा, एएसआई तेजाराम मेघवाल, हैडकाॅस्टेबल दरियाव खान, दिपसिंह आसोतरा, काॅस्टेबल गिरधारी शर्मा, दौलाराम भाद्राजुन, बागसिंह पूनक, परबाराम चैधरी माण्डोली, कन्हैयालाल घांची सहित समस्त मेघवाल समाज के लोग व ग्रामीण उपस्थित थे।

Visitor Counter :