सिलोईया गांव मे पेयजल संकट गहराया, एक किलोमीटर दूर पानी लेने जाने के लिए मजबूर ग्रामीण

   Posted Date : 5/19/2017 5:40:44 PM

कालन्द्री : कालन्द्री उपतहसील के सरतरा ग्रामपंचायत के सिलोईया गांव मे इन दिनों पेयजल संकट होने से ग्रामीणो को भारी मूसीबते झेलनी पड रही है।ग्रामीण करणसिह देवडा ने बताया की तेजधूप व गमीॅ मे लोग पेयजल लाने के लिए करीब एक किलोमीटर दूर बाणेश्वरमाताजी,महादेव मंदिर व मोरीया बाबा मंदिर तक जा रहे है।जिससे ग्रामीणो को खासी दिक्कते झेलनी पड रही है। समाजसेवी माधोसिह देवडा ने बताया की गांव मे पीने के पानी की गंभीर समस्या बनी हुई है।गांव मे दिनोदिन पेयजल संकट बडता जा रहा है।गांव मे जलदाय विभाग द्घारा करीब बीस वषॅ पहले पेयजल टंकी बनी हुई है।

जो नकारा साबित हो रही है।क्योकी उसकी पाईप लाईन मामावली वाॅटरवकॅस के कुंऐ से पाईप लाईन लगी हुई है।जो पुरी तरह से क्षतिग्रस्त होने के साथ जगह जगह से टूटी-फूटी है।जिससे पानी की आपूतिॅ नही हो सकती । फिर भी रजिस्टर मे पानी की आपूतिॅ नियमित इन्द्राज होती है।जबकी करीब आठ वषॅ से पानी टंकी मे आया ही नही है।करीब दो वषॅ पहले जलदाय विभाग ने पाईप लाईन का नाप वगैरा किया था लेकिन आज दिन तक पाईप लाईन ज्यो की त्यो है।शैतानसिह व जब्बरसिह देवडा ने बताया की पाईप लाईन बदलने के साथ टंकी का निमाॅण पास ही पहाड की टेकरी पर होना चाहिए ताकी पूरे गांव मे जलवितरण की व्यवस्था सुचारू हो सके।

पेयजल टंकी के पास ही पशुओ की आखरी होने से पशुओ व पक्षियो को पानी पीने के लिए दूर दूर भटकना पड रहा है।वतॅमान मे गमीॅ को देखते हुये पास ही बने हौद मे दानदाताओ द्घारा पानी के टेंकर डालकर पशु पक्षियो के लिए पेयजल की व्यवस्था की गई है।साथ ही टंकी के पास है गांव का मुख्य सरकारी विधालय होने से अध्ययनरत छात्रों को भी पेयजल संकट से गुजरना पड रहा है।जबकी जलदाय विभाग मौन धारण कर उदासीन रवैया अपना रहा है।सरपंच भैराराम ने बताया की पेयजल टंकी दिनोदिन जजॅर होती जा रही है।समय रहते उसमे सुधार की जरूरत है।साथ ही पेयजल संकट से निपटने के लिए गांव के जागरूक युवाओ के साथ दानदाता ही तैयार है लेकिन विभागीय व प्रशासनिय उदासीनता से आम लोग परेशान है।पीने के पानी के लिए लोगो को दर दर की ठोकरे खानी पड रही है।

Visitor Counter :