बिहार के बाद अब उदयपुर में भी चूहों ने गटक ली शराब

   Posted Date : 5/9/2017 9:31:12 PM

उदयपुर. बिहार के थानों के मालखानों में चूहों के लाखों लीटर शराब गटक जाने जैसा ही मामला उदयपुर में भी सामने आया है। वहां पुलिस थानों ने मुख्यालय को एेसा जवाब दिया था, यहां आबकारी विभाग के जमादार ने अदालत में कुछ एेसा ही बयान दिया है।
दरअसल, आबकारी विभाग की आेर से करीब आठ साल पहले पकड़ी गई शराब के मामले में न्यायालय ने तलब किया तो मालखाना इंचार्ज खाली बोतले व पव्वे लेकर पहुंच गया। उसने न्यायालय में तर्क किया दिया प्राकृतिक कारणों के कारण शराब नष्ट हो गई। मालखाने में या तो शराब चूहे पी गए या फिर बारिश में सीलन के कारण खराब हो गई। आरोपित के अधिवक्ता ने न्यायालय के समक्ष हकीकत बताई।

न्यायालय ने आबकारी जमादार के बयान लेकर मामले की अगली पेशी 15 मई तक टाल दी। आबकारी निरोधक दल प्रभारी चन्द्रभानसिंह ने गत 16 जून 2009 को रोशनजी की बाड़ी निवासी पीयूष पुत्र मांगीलाल सुहालका के मकान पर दबिश दी थी। टीम ने वहां 36 पेटी बीयर, 35 पव्वे ऑफिसर चाइस, 36 पव्वे घूमर व 12 पव्वे गुलाब के बरामद किए थे।

जानकारी के मुताबिक गणपुर शासकीय हायर सेकेंडरी स्कूल में शिक्षक हीरालाल जाट की बेटी के मंगलवार को लगन थे। सोमवार रात दुल्हन का बाना निकला था, रात से की रसोई बन रही थी शादी की पूरी तैयारियां हो गई थी। तभी मंगलवार सुबह दुर्घटना की खबर आई और दुल्हन के गांव में मातम पसर गया। सभी मेहमान और रिश्तेदार भी घर में मौजूद थे।

 आरोपित के अधिवक्ता गणपत चौधरी ने मामले की सुनवाई के दौरान न्यायालय को मालखाना इंचार्ज को माल सहित तलब करने का आग्रह किया था। न्यायालय के आदेश पर सोमवार को जमादार पूरबसिंह खाली बोतले व खाली पव्वे लेकर न्यायालय में उपस्थित हुआ।

Visitor Counter :